पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • बीएसएससी प्रश्नपत्र लीक मामले एसआईटी गठित

बीएसएससी प्रश्नपत्र लीक मामले एसआईटी गठित

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस के राडार पर कई गुरुजी

अबतककी पड़ताल में पुलिस के राडार पर कई गुरुजी हैं। कई धंधेबाज शातिरों के नाम पुलिस के हाथ लगे हैं जो विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में फर्जीवाड़ा करते हैं। इनका नेटवर्क बिहार-झारखंड सहित कई राज्यों में सक्रिय है। एसआईटी को ऐसे शातिरों के नेटवर्क को ध्वस्त करने का भी जिम्मा दिया गया है। एसएसपी ने कहा कि पटना पुलिस इस बात का दावा नहीं करती है कि पर्चा लीक हुआ ही है। हम जांच के बाद ही कुछ कह पाएंगे। हमें सख्ती से जांच करने के लिए खुली छूट दी गई है। जांच का दायरा जहां तक जाएगा हम जाएंगे। दोषी कोई भी हो उसे बख्शा नहीं जाएगा। आईजी ने कहा कि मीडिया और सोशल जगत में बीएसएससी की दोनों परीक्षाओं को लेकर कई तरह की सूचनाएं आई हैं। जांच टीम वैज्ञानिक तरीके से हर पहलु का सत्यापन करते हुए जांच करेगी।

जांच टीम में ये अफसर शामिल

जांचटीम में मनु महाराज के अलावा अपर पुलिस अधीक्षक राकेश दूबे, दानापुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी राकेश कुमार, पुलिस निरीक्षक अमलेश कुमार, अगमकुआं थानाध्यक्ष कामाख्या नारायण सिंह, शाहपुर थानाध्यक्ष विकास चंद्र यादव, एआईयू के विनय कुमार, सुलेमान मुस्तफा और कुमार सौरभ को रखा गया है।

क्राइम रिपोर्टर | पटना

बीएसएससीकी इंटरस्तरीय परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश के बाद जोनल आईजी नैयर हसनैन खां ने आठ सदस्यीय एसआईटी का गठन किया। एसएसपी मनु महाराज इस टीम का नेतृत्व करेंगे। जांच की प्रगति रिपोर्ट से डीआईजी सेंट्रल रेंज शालीन को हर दिन अवगत कराया जाएगा। खुद आईजी भी जांच की प्रगति पर नजर रखेंगे और समय-समय पर इसकी समीक्षा करेंगे।

एसआईटी शाहपुर और अगमकुआं थाने में दर्ज मामले में ही जांच करेगी। इसी जांच को आगे बढ़ाया जाएगा और इस क्रम में अगर जांच का दायरा बढ़ता है तो टीम उसपर काम करेगी।

पटना पुलिस ने 5 फरवरी को हुई बीएसएससी की दूसरे चरण की परीक्षा के ठीक एक दिन पहले तीन शातिरों को अगमकुआं थाना क्षेत्र के महात्मा गांधी नगर से गिरफ्तार किया था। इन शातिर स्कॉलर के पास से पुलिस ने कई छात्रों के एडमिट कार्ड, हाईटेक उपकरण, छात्रों के मूल प्रमाण पत्र सहित अन्य दस्तावेज बरामद किया था। इसी तरह 29 जनवरी को हुई बीएसएससी के पहले चरण की परीक्षा के ठीक एक दिन पहले पुलिस ने फर्जी बहाली कराने वाले गिरोह के पांच शातिरों को गिरफ्तार किया था। इस गिरोह ने सेना में बहाली और बीएसएससी में सेटिंग कराने की बात स्वीकार की थी। एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि जांच टीम दर्ज दोनों मामलों की ही पड़ताल करेगी। इस क्रम में अगर बीएसएससी परीक्षा में फर्जीवाड़े की बात सामने आती है तो टीम उसपर भी काम करेगी।

पटना | बिहारकर्मचारी चयन आयोग की इंटर स्तरीय परीक्षा के अब तक हुए दोनों सत्रों के प्रश्नपत्र लीक होने की बात सामने आने पर छात्र संगठनों और अभ्यर्थियों में आक्रोश है। सोमवार को आइसा और बीएसएससी अभ्यर्थियों ने बीएसएससी कार्यालय पर प्रदर्शन किया और परीक्षा रद्द करने की मांग की। इसके बाद हंगामा बढ़ता गया और उग्र छात्र बीएसएससी कार्यालय में घुसने लगे। इस दौरान बीएसएससी सचिव परमेश्वर राम छात्रों के सामने गए। उग्र छात्र उनसे भी धक्कामुक्की शुरू कर दी। हंगामा बढ़ता गया और अभ्यर्थियों के बीच फंसे बीएसएससी सचिव की भीड़ ने पिटाई कर दी। इसके बाद बीएसएससी के कर्मचारी, सचिव को बचाने में जुट गए तो दूसरी ओर पुलिस ने अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज कर दिया। इस दौरान बीएसएससी दफ्तर का एक कर्मचारी भी भीड़ के गुस्से का शिकार बना।

बीएसएससी के खिलाफ प्रदर्शन में सचिव को अभ्यर्थियों ने पीटा

खबरें और भी हैं...