• Hindi News
  • National
  • हरातू के लोगों ने सड़क मरम्मत की मांग को लेकर उषा मार्टिन गेट जाम किया

हरातू के लोगों ने सड़क मरम्मत की मांग को लेकर उषा मार्टिन गेट जाम किया

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
टाटीसिलवेस्थित उषा मार्टिन पेंग के मुख्य गेट पर हरातू के ग्रामीणों ने अपनी मांगों को लेकर सुबह सात बजे से सड़क जाम कर दी। ग्रामीणों का कहना था कि गांव जाने वाली सड़क काफी जर्जर हो चुकी है, चलने लायक नहीं है। जिस कारण आए दिन लोग गिरकर घायल हो रहे हैं। लेकिन कंपनी इसे बनवाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रही है। जबकि इस रास्ते से कंपनी का सामान लेकर आना-जाना ट्रक और ट्रेलर ही अधिकतर करते हैं।

जर्जर सड़क को बनवाने के लिए कई बार ग्रामीण कंपनी से मांग की है, लेकिन नहीं बनी। ग्रामीणों ने बताया कि सड़क चौड़ीकरण के लिए कई ग्रामीण अपनी जमीन भी दिए हैं ताकि सड़क बेहतर हो सके। अंत में थक-हारकर उनलोगों को मजबूरन यह कदम उठाना पड़ा। ग्रामीणों ने ड्यूटी जानेवाले कर्मी को भी अंदर जाने तक नहीं दिया। सभी कर्मी सड़क पर ही बैठ रहे।

ग्रामीणों का आरोप था कि कंपनी का पावर प्लांट भी चलता है, लेकिन आसपास गांव में बिजली की लचर व्यवस्था है। सड़क पर रोशनी के लिए भेपर लाइट भी नहीं लगाई गई है। कंपनी का गंदा पानी बहाया जाता है, जिससे ग्रामीणों के कुएं और बोरिंग का पानी भी खराब हो चुका है। जाम की सूचना पाकर मौके पर पुलिस बल पहुंच गई थी। बाद में ग्रामीणों को कंपनी की ओर से लिखित रूप से देकर आश्वस्त किया गया कि सड़क चलने लायक तीन से चार दिनों में ठीक कर दी जाएगी। पक्की सड़क बनाने की प्रक्रिया बरसात के बाद शुरू कर दी जाएगी। इसके बाद लगभग 12 बजे आक्रोशीत ग्रामीण जाम से हटे। इस दौरान जिप सदस्य फुलकुमारी देवी, नूतन पाहन, काशीनाथ महतो, सिल्वे के उपमुखिया अरविंद लोहरा, पंसस सपना देवी, पूनम देवी आदि ग्रामीण उपस्थित थे।

क्याकहते हैं मैनेजर : उषामार्टिन कंपनी के पर्सनल मैनेजर संजय मिश्रा ने बताया कि सड़क की स्थिति सुधारने के लिए हमलोग ग्रामीणों को लिखित रूप से देकर आश्वस्त कर दिए हैं। रही बात गंदा पानी बहाने का तो ये बिलकुल ही गलत और निराधार आरोप है। लाइट की भी व्यवस्था ठीक है। ग्रामीणों की सुविधा के लिए हमलोग सुबह पानी भी सप्लाई देते हैं और भविष्य में भी उनकी सुविधा का ख्याल रखा जाएगा।

खबरें और भी हैं...