पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • पीसीआर में सो रहे चार एएसआई और 12 जवान सस्पेंड, तीन थानेदारों पर विभागीय कार्यवाही का आदेश, तीन डीए

पीसीआर में सो रहे चार एएसआई और 12 जवान सस्पेंड, तीन थानेदारों पर विभागीय कार्यवाही का आदेश, तीन डीएसपी को कारण बताओ नोटिस

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इन्हें किया गया सस्पेंड

राजधानीमें रात्रि गश्त के दौरान पीसीआर में सो रहे 16 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। इनमें चार एएसआई और 12 जवान शामिल हैं। तीन थानेदारों पर विभागीय कार्यवाही का आदेश दिया गया है। वहीं तीन डीएसपी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। जिन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है उनका मुख्यालय पुलिस लाइन रहेगा।

शहर में बढ़ते अपराध को देखते हुए रांची पुलिस ने 7 जुलाई को डीएसपी और 12 जुलाई को थानेदारों को रात 12 बजे से सुबह पांच बजे तक गश्त करने का आदेश दिया था। भास्कर ने बुधवार रात ग्राउंड रियलिटी चेक की तो पीसीआर में पुलिसकर्मी सोए मिले। हथियार भी पैरों के पास पड़े थे। गाड़ी का गेट खोलकर फोटो लेने के बावजूद इनकी नींद नहीं खुली। इसके बाद दैनिक भास्कर ने 21 जुलाई के अंक में ‘सो रही है रांची पुलिस’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। फोटो में दिखाया गया था कि कैसे चौक-चौराहों पर पुलिस साइरन लाइट जलाकर गाड़ी में सो रही है। इस खबर पर संज्ञान लेते हुए एसएसपी कुलदीप द्विवेदी ने पूरे मामले की जांच की तो सभी दोषी पाए गए। इसके बाद शुक्रवार को उनके खिलाफ कार्रवाई की गई। एसएसपी द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि पुलिसकर्मियों की ऐसी गलती से पुलिस की छवि धूमिल हुई है। जो इनकी कर्तव्यहीनता, अनुशासनहीनता और आदेश के उल्लंघन काे दर्शाता है।

जिन्हें सस्पेंड किया गया है, उनमें पीसीआर-5, पीसीआर-10 पीसीआर-12 और पीसीआर-23 में तैनात पुलिसकर्मी शामिल हैं। साथ ही सिटी डीएसपी शंभु कुमार सिंह, हटिया डीएसपी विकास पांडेय और सदर डीएसपी विकास श्रीवास्तव को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इन्हीं डीएसपी के इलाके में पीसीआर के जवान सोए मिले थे। वहीं अरगोड़ा थानेदार रतिभान सिंह, लालपुर थानेदार रमोद कुमार और गोंदा थानेदार अनिल द्विवेदी पर विभागीय कार्यवाही चलाने का आदेश दिया।

खबरें और भी हैं...