पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

12वीं के छात्र ने खुद को लगाई आग, लपटें देख लड़कियों की निकल गई चीख

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रांची. लाला लाजपत राय स्कूल में 12वीं साइंस के फिजिकल एजुकेशन की प्रैक्टिकल परीक्षा चल रही थी। लंच ब्रेक होने वाला था। तभी क्लासरूम के सामने से आग की लपटों में घिरा एक स्टूडेंट बेतहाशा भागने लगा। उसे देख लड़कियों की चीख  निकल पड़ी। 

शोर सुनकर शिक्षक गैलरी की ओर भागे। शिक्षक विकास ने अपनी जैकेट स्टूडेंट पर डाला। पीछे से प्रिंसिपल पीके ठाकुर भी पहुंचे और आग बुझाने लगे। इससे उनकी हथेली जल गई।  फिर शिक्षकों ने पर्दा फाड़कर उसे लपेटा। तब तक आग बुझ चुकी थी। अन्य छात्र भी वहां पहुंच गए थे। शिक्षक उसे रिंची अस्पताल ले गए। उसकी हालत देखकर डॉक्टरों ने भर्ती करने से इनकार कर दिया। फिर उसे देवकमल अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों के मुताबिक उसका शरीर 65 फीसदी झुलस गया है। मूल रूप से आरा का छात्र रांची के हरमू में भाई के साथ फुआ के यहां रह रहा है।
 
छात्र ने कहा, पढ़ाई का था प्रेशर
छात्र ने पुलिस को बताया कि  स्कूल में पढ़ाई का बहुत प्रेशर था। इसलिए उसने आग लगा ली। सुसाइड के लिए पेट्रोल और स्कूल ही क्यों चुना, इस सवाल पर कुछ नहीं बोला। उसने बताया कि स्कूल आने से पहले उसने एक लीटर पेट्रोल खरीदा। सुबह 8.30 बजे वह बैग में पेट्रोल का बोतल छिपा कर  स्कूल पहुंचा। साथियों से नजरें बचाते हुए वह क्लास रूम में गया। वहां करीब 700 एमएल पेट्रोल अपने शरीर पर उड़ेल लिया। फिर आग लगाकर गैलरी में दौड़ने लगा। वहीं उसके बड़े भाई ने बताया कि वह पढ़ने में काफी तेज है। स्कूल ने उसे हाल ही में सस्पेंड कर दिया था। मॉनिटर की पोस्ट से भी हटा दिया  था। इसलिए उसने यह कदम उठाया।
 
स्कूल ने कहा पढ़ने में था कमजोर
स्कूल के प्रिंसिपल ने कहा कि पढ़ने में वह औसत था। सस्पेंड उसे इसलिए किया गया था, क्योंकि दीपावली के समय स्कूल में उसने पटाखा फोड़ा था। उस समय उसके अभिभावक को भी बुलाया गया था। स्कूल के किसी भी शिक्षक ने कभी उसे डांटा तक नहीं। यहां तक कि मैंने भी उसे कभी नहीं डांटा।
खबरें और भी हैं...