पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • देवी देवताओं का संवाद है अध्यात्म रामायण पुराण

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

देवी-देवताओं का संवाद है अध्यात्म रामायण पुराण

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चिन्मयमिशन की ओर से जेवीएम श्यामली में चल रहे आध्यात्म रामायण ज्ञान कथा यज्ञ पर प्रवचन करते हुए आचार्य स्वामी माधवानंद ने कहा कि आध्यात्म नारायण ब्रह्मांड पुराण के अंतर्गत आता है। आध्यात्म रामायण पुराण है। पुराण की कथा का वर्णन सूत महाराज कर रहे हैं, जिसे 80 हजार शिष्यों के साथ सौनक सुन रहे हैं। सूत महाराज ब्रह्मा और नारद के संवाद को धारण कर रहे हैं। नारद अपने पिता ब्रह्मा से पूछ रहे हैं कि कलियुग आने वाला है। मनुष्य नास्तिक हो जाएंगे। बुद्धि नाश हो जाएगी। इससे तारण के क्या उपाय हैं। ब्रह्मा तब आध्यात्म रामायण के बारे में बताते हैं। वह कहते हैं कि आध्यात्म का अर्थ आत्मा है। राम एक आध्यात्म तत्व हैं। राम तत्व के बारे में यहां वर्णन है। ब्रह्मा कहते हैं कि शिव-पार्वती तत्व में भी यही कथा है।

पार्वती के प्रश्न पूछने पर शिवजी यह कहते हैं। सीता को हनुमान प्रश्न पूछते हैं कि राम तत्व क्या है। सीता भी इसका जवाब देती हुईं कहती हैं कि राम हृदय प्रसिद्ध है। इसका अर्थ है कि आध्यात्म रामायण की कथा सूत-सौनक, ब्रह्मा-नारद, शिव-पार्वती और सीता-हनुमान के बीच का संवाद है। सुबह विवेक चूड़ामणि पर व्याख्यान करते हुए स्वामी माधवानंद ने कहा कि सिद्ध साधक परमात्मा में पहुंच जाता है। वह बताता है कि मैं कर्ता नहीं, भोक्ता भी नहीं। मैं इंद्रिय, चेतन मन से परे हूं।

जेवीएम श्यामली में अध्यात्म रामायण पुराण की कथा करते स्वामी माधवानंद।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें