पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • संत जेवियर्स कॉलेज कन्वोकेशन 2011 14 के यूजी और 2012 14 के पीजी स्टूडेंट‌्स को मिली डिग्री

संत जेवियर्स कॉलेज कन्वोकेशन 2011-14 के यूजी और 2012-14 के पीजी स्टूडेंट‌्स को मिली डिग्री

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सफलता मिलती है तो सिर्फ अपनी काबिलियत, लगन और सकारात्मक प्रयासों की बदौलत। जब यह हाथ आती है तो अपने साथ खुशियों का सैलाब लेकर आती है। संत जेवियर्स कॉलेज में सोमवार को खुशियों का सैलाब कुछ ऐसा ही उमड़ता दिखाई दिया। मौका था यूजी और पीजी के कन्वोकेशन का। जिसके भी गले में सफलता का मेडल और हाथों में डिग्रियां सजीं वह उमंगों के आसमान पर सैर करता नजर आया। कभी मुस्कान नजर आई तो कभी आंखों से बूंदों के रूप में खुशियां बिखरती दिखीं। महाविद्यालय प्रांगण में आयोजित सातवें ग्रेजुएशन सेरेमनी में वर्ष 2012-14 के पीजी और 2011-14 के यूजी छात्रों को डिग्रियां प्रदान की गईं। इस मौके पर अपने विषयों में अव्वल अंकों से सफलता हासिल करने वाले जेवेरियंस को गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया गया। 1531 स्टूडेंट्स को डिग्री प्रदान की गई। मंगलवार को 1931 स्टूडेंट्स को डिग्री मिलेगी।

गोल्ड मेडल से 33 स्टूडेंट्स को सम्मानित किया गया, जिसमें 24 छात्राएं थीं, मात्र 9 छात्रों को ही गोल्ड मेडल मिला। ग्रेजुएशन सेरेमनी के मुख्य अतिथि इसी कॉलेज के पूर्ववर्ती छात्र, शिक्षक तथा आईआरएस से सेवानिवृत एवं वर्तमान में डेलॉइट इंडिया के सीनियर मैनेजर एसपी सिंह रहे। समारोह के विशिष्ट अतिथि रांची विवि के वीसी डॉ. रमेश पांडेय थे। मौके पर मंचासीन लोगों में जेसुइट प्रोविंशियल सुपीरियर डॉ. फादर जोसेफ मरियानुष कुजूर, कॉलेज रेक्टर फादर हेनरी बारला, प्रिंसिपल डॉ. फादर निकोलस टेटे तथा वाइस प्रिंसिपल डॉ. फादर नबोर लकड़ा शामिल थे।

मुख्य अतिथि ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन किया, जिसमें विशिष्ट अतिथि, प्रोविंशियल सुपीरियर, कॉलेज रेक्टर, प्रिंसिपल वाइस प्रिंसिपल ने उनका सहयोग किया।

बाएं से वाइस प्रिंसिपल डॉ. फादर नबोर लकड़ा, कॉलेज रेक्टर फादर हेनरी बारला, मुख्य अतििथ एसपी सिंह, वीसी डॉ. रमेश पांडेय, प्रिंसिपल डॉ. फादर निकोलस टेटे, जेसुइट प्रोविंशियल सुपीरियर डॉ. फादर जोसेफ मरियानुष कुजूर तथा एग्जामिनेशन कंट्रोलर एके सिन्हा मंचासीन रहे।

अंकिता साबू-एम कॉम, तरुण कांति खलखो-एमए हिंदी, देबजानी सरकार-एमए अंग्रेजी, स्नेहा मुखर्जी-एमए इकोनॉमिक्स, आतिश कृषाणु-एमए भूगोल, सपना कुमारी-एमए राजनीति विज्ञान, स्नेहा चक्रवर्ती-बीएड, विश्वजीत कुमार दत्ता-एमसीए, रुचि श्वेता-बीबीए, त्रिपुरारी कुमार-अर्थशास्त्र, शालिनी-अंग्रेजी, गॉडविन परेरा-भूगोल, ज्योति रंजीता बोदरा-हिंदी, नवीन कुमार बाड़ा-इतिहास, रीना हांसदा-राजनीति विज्ञान, कुमारी अनुपमा- बायोटेक्नोलॉजी, स्तुति कुजूर-बॉटनी, प्रतिभा महतो-केमिस्ट्री, वंदना कुमारी-जियोलॉजी, विक्रम प्रसाद शौर्य-गणित, प्रियंका कुमारी-भौतिकी, मुकुल दत्ता और फातिमा फाजिया-जूलॉजी, पूजा कुमारी-अकाउंट्स, स्नेहा कुमारी-फंक्शनल इंग्लिश, श्वेता कुमारी-मासकॉम, विशाखा कल्याणी-सीएपीपी, मारिया एजाज-आईटी, रोनिका डिसिल्वा-एएसपीएसएम, स्वाति गुप्ता-आेएमएसपी, आकाशदीप- पीपीआई, पूजा- बीएफएमओ, रुखसार परवीन- बीआरएम, प्रियंका कुमारी-एनिमेशन।

दिशा देने का दायित्व स्टूडेंट्स का : रमेश पांडेय

प्रोरमेश पांडेय ने अध्यक्षीय संबोधन में ग्रेजुएशन सेरेमनी में गोल्ड मेडल से सम्मानित होने वाले तथा डिग्री प्राप्त करने वाले स्टूडेंट्स को उनके सफलता की बधाई दी। इस सफलता का श्रेय अभिभावक शिक्षकों के मेहनत को दिया। ग्रेजुएशन सेरेमनी को छात्रों के अथक मेहनत प्रतिभाओं के प्रदर्शन की पहचान बताया। कहा कि उम्मीद है कि ये छात्र अब समाज देश के लाखों वैसे लोगों को जो दिशाविहीन हैं, उन्हें दिशा प्रदान करेंगे। दूसरों के लिए आशा और खुशहाली का मार्ग प्रशस्त करेंगे।

गोल सुनिश्चित कर खूब प्रयास करें : एसपी सिंह

मुख्यअतिथि एसपी सिंह ने संत जेवियर्स कॉलेज में पढ़ने वाले सभी स्टूडेंट्स को जेवेरियंस होने पर गौरवान्वित होने का आह्वान किया। उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। कहा कि ग्रेजुएशन सेरेमनी डिग्री प्रदान करने या गोल्ड मेडल से सम्मानित करने का महज अवसर नहीं, बल्कि अपने जीवन के लक्ष्य गोल निर्धारित कर उसके दिशा में अब तक किए गए प्रयास के मूल्यांकन का अवसर है। नियमित अभ्यास कठिन मेहनत से खामियों को सफलता की ताकत बनाएंं। सुनिश्चित सफल होंगे।

डिग्री पाकर स्टूडेंट्स खुशी से झूम उठे, महीनों बाद फ्रेंड्स से मिलने की दोहरी खुशी भी थी। अब फिर कब मिलेंगे, यह पता नहीं, इसलिए इस लम्हे को कैमरे में कैद भी किया।

अगर मेहनत और पैशन को अवार्ड मिलता है तो आत्मविश्वास बढ़ता है। आज का दिन मेरे लिए खास है। बहुत से उतार-चढ़ाव के साथ इसे हासिल किया है। अभी डीआरडीओ में सीनियर टेक्निकल अस्सिटेंट हूं। आईएएस बनना मेरा सपना है। विक्रमप्रसाद सिंह, गणित, गोल्ड मेडलिस्ट

डिग्री, गोल्ड मेडल और कॉलेज फ्रेंडस सभी एक साथ मिले हैं। इस खुशी को कैसे बयां करूं समझ नहीं रहा है। इस सफलता के लिए मेरे पेरेंटस, प्रोफेसर आैर फ्रेंडस ने मेरा भरपूर सहयोग किया है। लाइफ के हर उतार-चढ़ाव में मुझे मोटिवेट किया है। श्वेताकुमारी, मास कम्यूनिकेशन, गोल्ड मेडलिस्ट

मेरे लिए दोहरी खुशी का दिन है, एक तो मुझे गोल्ड मेडल मिला दूसरा सालों के बाद अपने दोस्तों से मिलने का मौका मिला। इस एचीवमेंट का क्रेडिट अपने पेरेंट्स, फ्रेंडस, टीचर्स को दूंगी। मेरा सपना टीचर बनना है। शालिनी,इंग्लिश, गोल्ड मेडलिस्ट

मुझे खुशी है कि माता पिता का नाम ऊंचा किया। मेरी सफलता के पीछे मेरे पेरेंट्स, फ्रेंडस, टीचर्स का बहुत हाथ है। जेवियर कॉलेज को भी धन्यवाद देती हूं, जिसने पढ़ने का बेस्ट माहौल दिया। स्तुतिकुजूर, बॉटनी, गोल्ड मेडलिस्ट

इस दिन का बहुत दिनों से इंतजार था। इसेे मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकती हूं। आज जो सम्मान मुझे मिला है, उसे मैं अपने माता-पिता, प्रोफेसर्स और फ्रेंडस के नाम करना चाहती हूं। मेरा लक्ष्य आईएएस बन कर देश की सेवा करना है। वंदनाकुमारी, जियोलॉजी, गोल्ड मेडलिस्ट

मेरे लिए गर्व के साथ-साथ खुशी का दिन है। इस मुकाम तक पहुंचने में मेरे माता-पिता, बहनें, दोस्तों और इतिहास विभाग के प्रोफेसरों का सहयोग मिला। मैं लेक्चरर बनना चाहता हूं। नवीनकु. बाड़ा, इतिहास, गोल्ड मेडलिस्ट

मैं अपनी फैमिली, प्रोफेसर्स और फ्रेंडस को धन्यवाद देना चाहती हूं। इनके हेल्प और मोटिवेशन के बिना यह आसान नहीं होता। आज बहुत खुशी और गर्व का दिन है मेरे लिए। मैं एक साइंटिस्ट बनना चाहती हूं। प्रतिभामहतो, केमेस्ट्री, गोल्ड मेडलिस्ट

मैं अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और उर्सुलाइन धर्मसमाज की बहनों एवं शिक्षकों को देना चाहती हूं। मैं एक शिक्षिका बनना चाहती हूं। इसके लिए कड़ी मेहनत कर रही हूं। यह क्षण मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। जिसे शब्दों में बयां करना मुश्किल है। ज्योतिरंजिता बोदरा, हिंदी, गोल्ड मेडलिस्ट

सेवंथ ग्रेजुएशन सेरेमनी में 33 को मिला गोल्ड मेडल

छात्राओं ने मारी बाजी : गोल्डमेडल से 33 स्टूडेंट्स को सम्मानित किया गया, जिनमें 24 छात्राएं थीं, मात्र 9 छात्रों को ही गोल्ड मेडल मिला। मेडल और डिग्री मिलने के बाद सभी स्टूडेंट्स ने ग्रुप फोटोग्राफी करवाई, टोपी उछालकर अपने सक्सेस को सेलिब्रेट किया।

खबरें और भी हैं...