• Hindi News
  • National
  • रिटायर सूबेदार ने एटीएम से पैसे उड़ाने वाले साइबर अपराधियों को तीन किलोमीटर पीछा कर पकड़वाया

रिटायर सूबेदार ने एटीएम से पैसे उड़ाने वाले साइबर अपराधियों को तीन किलोमीटर पीछा कर पकड़वाया

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गिरोह का नेटवर्क कहां-कहां तक फैला है, पुलिस खंगालने में जुटी

क्राइमरिपोर्टर | रांची

चुटियामें रहने वाले सेना से सेवानिवृत्त सूबेदार संतोष रजक की सूझबूझ से कांटाटोली ट्रैफिक पोस्ट पर तैनात जवानों पीसीआर -6 के पुलिसकर्मियों ने बोलेरो से भाग रहे पांच साइबर अपराधियों को शनिवार को दिन के 2.45 बजे कांटाटोली से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार अपराधियों में गया (बिहार) के वजीरगंज का प्रिंस कुमार, विक्की भारती, प्रिंस, रांची के दीपाटोली का धीरज कुमार और खेलगांव का रहने वाला सचिन कुमार सिंह शामिल है। जिस बोलेरो (बीआर02एस3602) से अपराधी भाग रहे थे, उसे भी जब्त कर लिया है। गिरफ्तार साइबर अपराधियों का सरगना वजीरगंज का रहने वाला प्रिंस कुमार है। प्रिंस ने ही सेवानिवृत्त सूबेदार संतोष रजक को चुटिया के एक एटीएम में ठगी का शिकार बनाया था और उनके खाते से 20 हजार रुपए निकाल लिए थे। गिरफ्तार सरगना प्रिंस उसके साथियों से चुटिया पुलिस पूछताछ कर रही है।

प्रिंस ने पुलिस के समक्ष कबूल किया है कि उसने ही सूबेदार संतोष रजक से ठगी कर 28 अगस्त को उनके खाते से 20 हजार रुपए निकाल लिए थे, जब वे चुटिया के एटीएम से पैसे निकालने पहुंचे थे। साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी में ट्रैफिक एएसआई देवेंद्र कुमार सिंह, हवलदार बाबर हुसैन, हवलदार त्रिपुरारी सिंह, आरक्षी राजो कुमार, आरक्षी जयंत बारला, पीसीआर छह के एएसआई विनोद शर्मा, चालक पुलिस प्रकाश रवि, महिला हवलदार ग्रे टोपनो, रेखा कुमारी, निभा अहीर विभा लकड़ा ने अहम भूमिका निभाई।

पुलिस द्वारा पूछताछ में प्रिंस ने बताया कि गिरोह का सरगना कोई और है। वह तो सिर्फ उसके लिए काम करता है। गिरोह का सरगना भी गया (बिहार) के वजीरगंज का है। प्रिंस ने उसका मोबाइल नंबर भी पुलिस को बता दिया। पुलिस ने सरगना को पोन लगाया, तो स्विच ऑफ मिला। पुलिस अब उसकी भी तलाश में जुट गई है। गया पुलिस को भी सरगना के बारे में जानकारी दे दी गई है। अभी पुलिस गिरफ्तार अपराधियों से यह पता लगा रही है कि गिरोह में और कितने सदस्य हैं और उनका नेटवर्क कहां-कहां तक फैला है।

सूबेदार संतोष रजक 28 अगस्त की घटना की जानकारी देेते। आरोपी की फोटो लेकर वे रोज उसकी तलाश में चलते थे।

ऑरेंज टीशर्ट में मुख्य आरोपी प्रिंस कुमार और उसे गिरफ्ता करने में अहम भूमिका निभानेवाले हवलदार बाबर और ट्रैफिक एसआई देवेंद्र सिंह।

इसी बोलेरो वाहन में पांच आरोपी बैठ कर कांटाटोली की ओर जा रहे थे। इसे रोकने के लिए हवलदार बाबर गाड़ी की बोनट पर कूद गए

खबरें और भी हैं...