• Hindi News
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • News
  • SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले
--Advertisement--

SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले

हस्तशिल्प संस्था की ओर से रेडिशन ब्लू में लगाए गए छह दिवसीय सिल्क इंडिया प्रर्दशनी के दूसरे दिन शुक्रवार को...

Dainik Bhaskar

Aug 27, 2016, 03:45 AM IST
SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले
हस्तशिल्प संस्था की ओर से रेडिशन ब्लू में लगाए गए छह दिवसीय सिल्क इंडिया प्रर्दशनी के दूसरे दिन शुक्रवार को ग्राहकों की खूब भीड़ दिखी। तीज और आगे रहे त्योहारों को लेकर लोग खरीदारी करने पहुंच रहे हैं। सिल्क का बाजार महिलाओं से गुलजार है। यहां के कलेक्शन लोगों को बहुत पसंद रहे हैं। मेले में कुल 70 स्टॉल लगाए गए हैं। सिल्क की इतनी वेरायटी होने की वजह से लोग शॉपिंग करने पहुंच रहे हैं। सिल्क के मामले में झारखंड तसर सिल्क का हब है, यहां देश में सबसे ज्यादा तसर सिल्क का उत्पादन होता है। सिल्क के कपड़े फैशन ट्रेंड में फिर से शामिल हो गए हैं। साड़ी-सूट से लेकर कुर्ती और टॉप में भी इसका यूज हो रहा है। लड़कों के कुर्ते और बंडी में भी सिल्क की वेराइटी है। डिजाइनर शर्ट भी बन रहे हैं।

मलमलीसिल्क को प्राकृतिक रंगों से बनाया जाता है

प्रदर्शनीमें कॉटन सिल्क, कोसा की साड़ियां, ड्रेस मटेरियल मौजूद हैं, वहीं मलबरी सिल्क की साड़ियां भी खासे आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं। स्टॉल में मलबरी सिल्क की वेरायटी देखने को मिल रही है। स्टॉलधारक गोस्वामी ने बताया कि यह कला भी सैकड़ों साल पुरानी है। मलबरी सिल्क को महारानी रूपमती के लिए कारीगरों ने ईजाद किया था। इस सिल्क की सबसे बड़ी खासियत होती है कि इसमें प्राकृतिक रंगों का इस्तेमाल होता है। प्राकृतिक रंगों के प्रयोग के कारण ये शरीर के लिए भी बहुत अच्छे होते हैं। मलबरी सिल्क की साड़ियों में प्राकृतिक रंगों के कारण बहुत अच्छी चमक रहती है।

लिनेन के साथ भागलपुरी सिल्क की भी हो रही डिमांड

मेलमें बिहार के बुनकरों ने अपने हुनर की शानदार प्रदर्शनी से लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा है। देश के विभिन्न राज्यों के लोगों ने मेले में स्टॉल लगाए हैं। भागलपुर बिहार से आए स्टॉलधारकों ने बताया कि ग्राहकों का रुझान तसर सिल्क, घिचा सिल्क, लिनेन, रॉ सिल्क की ओर है। आरी सिल्क और मटका तसर रेयर होने की वजह से बहुत खरीदे जा रहे हैं। 1500 रुपए से लेकर एक लाख रुपए तक की साड़ियां और ड्रेस मटेरियल यहां उपलब्ध हैं।

कोलकाता से आए शिल्पकारों ने ब्लॉक प्रिंट के जरिए साड़ियों पर शकुंतला दुष्यंत की प्रेमकथा का खूबसूरत चित्रण किया गया है। इसके साथ ही राजस्थान से बंधेज, बांधनी सिल्क साड़ी, जयपुर कुर्ती, ब्लॉक प्रिंट, सांगानेरी प्रिंट, कोटा डोरिया, उत्तर प्रदेश से तंचोई, बनारसी, जामदानी, जामावार, पश्चिम बंगाल के शांति निकेतन का काथा वर्क, बालूचेरी आदि साड़ियां उपलब्ध हंै।

एक लाख की साड़ी बिक रही है एग्जीबिशन में, यह गोल्डेन-रेड धागों से बनी है।

सिल्वर-गोल्ड रंगों का प्योर जरी वर्क महिलाओं को लुभा रहा है

आंध्रप्रदेशकी फेमस कांजीवरम साड़ी की खासियत यह है कि इसमें इस्तेमाल होने वाली जरी गोल्ड और सिल्वर की बनी होती है। यह साड़ी को खास और रॉयल बनाती है। स्टॉलधारक बताते हैं कि तीज को देखते हुए लाल और पीली साड़ियों की ज्यादा डिमांड है। सिल्क में ये रंग ज्यादा उभर कर आते हंै, साथ ही उस पर गोल्डन वर्क बहुत जंचता है। सिल्क की साड़ियां बहुत सॉफ्ट और कंफर्टेबल होती है। उपाड़ा, काथा वर्क, जामदानी सिल्क भी पॉपुलर हैं। पंजाब का ट्रेडिशनल फुलकारी वर्क रांची में भी पसंद की जा रही है। 3000 रुपए से शुरू होने वाले फुलकारी वर्क वाली साड़ी बहुत खूबसूरत है। फुलकारी वर्क की कुर्तियों की मांग भी खूब हो रही है।

सुबह से ही महिलाओं की भीड़ एग्जीबिशन में नजर आई, साड़ियों के साथ-साथ ड्रेस मैटेरियल की भी खूब खरीदारी यहां हुई।

तसर सिल्क की वेराइटी रही पसंद

SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले
SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले
X
SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले
SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले
SILK EXHIBITION : देशके विभिन्न राज्यों की प्रसिद्ध सिल्क साड़ियों का किया गया है डिस्पले
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..