• Hindi News
  • Former Prime Minister ChandraShekhar Connection From Singh Mention

कभी यहां आते थे पूर्व पीएम चंद्रशेखर, लगता है मंत्री से लेकर खिलाड़ियों का जमावड़ा

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
धनबाद. पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर का धनबाद के सिंह मेंशन से खास कनेक्शन रहा है। नवंबर 1990 में पीएम बनने के बाद चंद्रशेखर यहां आए थे। इससे पहले भी वे यहां आते रहते थे। उनकी इस परंपरा को कई राजनेताओं ने आगे बढ़ाया है। इनमें केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और अन्य नेताओं के साथ-साथ खिलाड़ी हरभजन सिंह भी शामिल हैं। धनबाद में सिंह मेंशन है खास रुतबा...
- एनएच-32 पर स्टीलगेट के पास स्थित 1980 के दशक में बनें इस घर की बुनियाद झरिया के पूर्व विधायक सूर्यदेव सिंह ने रखी थी।
- अपने शुरूआती दिनों से लेकर आज तक सिंह मेंशन ने कई उतार चढ़ाव देखे हैं।
- जहां इसने पूर्व प्रधानमंत्री से लेकर कई केंद्रीय मंत्रियों, झारखंड के मंत्रियों, खिलाड़ियों और फिल्मी हस्तियों का स्वागत किया है।
(चर्चा में क्यों- पूर्व पीएम चंद्रशेखर ने छह मार्च 1990 को प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दिया था)
संजीव सिंह हैं वर्तमान मुखिया

वर्तमान में सिंह मेंशन के मुखिया झरिया विधायक संजीव सिंह हैं। संजीव, सूरजदेव सिंह के बेटे हैं। वे पहली बार अपने पिता के विरासत झरिया विधान को संभाल रहे हैं। उन्होंने दिसंबर 2014 में भाजपा की टिकट इस सीट पर जीत हासिल की थी। उन्हें अपने पिता की यह विरासत अपनी मां कुंती देवी से मिली है। कुंती देवी झरिया से 2004 से 2014 विधायक रही थी। 1977 से ले आकर आज तक इस सीट पर सूर्यदेव सिंह, उनके भाई बच्चा सिंह, उनकी पत्नी कुंती सिंह और बेटे संजीव का कब्जा रहा है। सिर्फ एक बार 1995 में यहां राजद प्रत्याशी आबो देवी चुनाव जीतने में सफल रही थी।
राजीव की हत्या सबसे बड़ा झटका

सिंह मेंशन के लिए सबसे बड़ा झटका सूरजदेव सिंह के बड़े बेटे राजीव रंजन सिंह की हत्या रही थी। 2003 में उनका मर्डर हुआ था। आरोप है कि उस दौर में मेंशन के सबसे बड़े दुश्मन रहे कोयला कारोबारी सुरेश सिंह ने साजिश कर यूपी के डॉन ब्रजेश सिंह के हाथों राजीव की हत्या करवा दी थी।
राजीव रंजन के हत्या के लिए कथित तौर पर साजिश रचने वाले सुरेश सिंह को इसकी कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी थी। दिंसबर 2011 में सुरेश की हत्या सरेआम सैकड़ों लोगों के मौजूदगी धनबाद क्लब में कर दी गई थी। इस हत्या का आरोप संजीव सिंह के चचेरे भाई शशि सिंह पर है। शशि आज तक इस मामले में फरार हैं।
अनुराग कश्यप को भी देनी पड़ी थी हाजिरी

सिल्वर स्क्रीन पर धनबाद के वासेपुर के गैंग को अनुराग कश्यप ने अपनी फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर में दिखाया। फिल्म में एक दृश्य को लेकर काफी विवाद हुआ था। बताया जाता है कि इसका स्पष्टीकरण देने के लिए खुद अनुराग और इस फिल्म के लेखक जिशान कादरी को सिंह मेंशन आना पड़ा था।
आगे की स्लाइड्स में देखें सिंह मेंशन में पहुंचे नेताओं और खिलाड़ियों के फोटोज...