पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • तय समय में भरें जल कर नहीं तो कार्र‌वाई : चौधरी

तय समय में भरें जल कर नहीं तो कार्र‌वाई : चौधरी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जल संसाधन मंत्री ने अपनाया कड़ा रुख, दिया निर्देश

सिटीरिपोर्टर | रांची

राज्यके जल संसाधन मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने कड़ा रुख अपनाते हुए विभाग के वरीय अधिकारियों को बकाया जल कर 2680 करोड़ रुपए की वसूली के लिए अविलंब कारगर कदम उठाने का निर्देश दिया है। पहले कंपनियों को नोटिस देकर एक निश्चित समय सीमा के अंदर जल कर का भुगतान करने को कहा जाएगा।

अगर उसके बाद भी उस पर अमल नहीं होगा तो कर जमा नहीं करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। साथ ही वैसे मामले जो पहले से न्यायालय में लंबित हैं, उसके त्वरित निबटारे के लिए भी विभाग के अधिकारियों को समुचित कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। विभाग का मानना है कि अगर सभी कंपनियों ने बकाया राशि का भुगतान कर दिया तो उसे कम से कम 2680 करोड़ रुपए का उपार्जन हो सकेगा। जल संसाधन विभाग का रेलवे, विभिन्न औद्योगिक घरानों, शिक्षण संस्थानों तथा पेयजल एवं स्वच्छता विभाग आदि पर जल कर का बकाया है।

ये हैं बड़े बकाएदार

दक्षिणपूर्व रेलवे हटिया - 02 करोड़ 22 लाख, दक्षिण पूर्व रेलवे मूरी -01 करोड़ 25 लाख, हिंडाल्को मुरी - 01 करोड़ 72 लाख, बीआईटी मेसरा - 44 लाख, एसीसी लिमिटेड वर्कर्स झिंकपानी (चाईबासा) - 5 लाख, टाटा स्टील माइंस डिवीजन नोवामुंडी- 6 करोड़ 81 लाख, दक्षिण पूर्व रेलवे चक्रधरपुर - 3 करोड़ 48 लाख, सेल गुवा - 56 लाख, जुपिटर सीमेंट इंडस्ट्रीज - 7 लाख, जिंदल स्टील एंड पावर - 56 लाख, भूषण पावर एंड स्टील - 7 लाख 32 हजार 3 सौ, हॉरिजन लोहा उद्योग - 56 हजार 7 सौ, इलेक्ट्रो स्टील दिशुमबुरू आयरन और माइंस - 62 हजार 600, कोहिनूर स्टील लिमिटेड पर 5 करोड़ 12 लाख (मामला न्यायालय में लंबित), आधुनिक एलाय एंड पावर - 3 करोड़ 22 लाख (मामला न्यायालय में लंबित), आधुनिक थर्मल एनर्जी - 72 करोड़ 92 लाख (मामला न्यायालय में लंबित), पेयजल एवं स्वच्छता विभाग सरायकेला (चांडिल)- 31 लाख, एएमएल स्टील- 2 करोड़ 84 लाख, पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल आदित्यपुर -2 करोड़ 66 लाख, पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल जमशेदपुर - 2 करोड़ 55 लाख, बोकारो स्टील प्लांट - 50 लाख, यूरेनियम कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया- 6 करोड़ 35 लाख, अभिजीत इंफ्रास्ट्रक्चर - 52 लाख 23 हजार, कॉरपोरेशन इस्पात - 3 करोड़, यूरेनियम कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया तुरामडीह हाता - 2 करोड़ 12 लाख, टीवीएनएल ललपनिया (औद्योगिक उपयोग के लिए) - 18 करोड़ 39 लाख, टीवीएनएल ललपनियां (घरेलू उपयोग के लिए) -6 करोड़ 39 लाख, बोकारो औद्योगिक क्षेत्रीय विकास प्राधिकार - 21 लाख, चंद्रपुरा थर्मल पावर स्टेशन - 17 लाख 39 हजार, इनलैंड पावर - 78 लाख 81 हजार, ब्रह्मपुत्र मेटालिक्स - 90 लाख, इलेक्ट्रो स्टील - 13 करोड़ 93 लाख,आर्सेलर मित्तल इंडिया - 3 लाख 75 हजार, झारखंड इस्पात प्राइवेट लि. - 8 लाख 76 हजार, एस्सार पावर झारखंड - 4 करोड़ 30 लाख, कॉरपोरेट इस्पात एलॉय - 50 लाख, जिंदल - 38 लाख 43 हजार