पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • आयोग को नजरअंदाज करना दो एसपी को महंगा पड़ा

आयोग को नजरअंदाज करना दो एसपी को महंगा पड़ा

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सख्त हुआ चुनाव आयोग

लोहरदगा और साहेबगंज के एसपी को अनुशासनहीनता के आरोप में हटाने का आदेश

चुनावआयोग की अनुमति के बगैर अवकाश पर जाना लोहरदगा और साहेबगंज के आरक्षी अधीक्षकों को महंगा पड़ गया। आयोग ने इसे गंभीर अनुशासनहीनता मानते हुए दोनों को तत्काल हटाने का आदेश दे दिया। आचार संहिता लागू होने के बाद भी लोहरदगा के तत्कालीन एसपी चंद्रशेखर प्रसाद आयोग से बिना अनुमति लिए ही अवकाश पर चले गए। वहीं, साहेबगंज के तत्कालीन एसपी अवध बिहारी राम स्वीकृत अवकाश के बाद भी कई दिनों तक लगातार ड्यूटी से अनुपस्थित रहे। उन्होंने अवकाश बढ़ाने का आवेदन भी नहीं दिया। स्थिति यह थी कि साहेबगंज जिला कई दिनों तक बिना एसपी के रहा। आचार संहिता लागू होने के बाद भी उन्हें अनुपस्थित रहने से विधि व्यवस्था की समस्या भी उत्पन्न हो गई थी। इसे आयोग ने गंभीरता से लिया और उनके खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दे दिया।

मुझे लगा कि पुलिस मुख्यालय देगा आयोग को सूचना : चंद्रशेखर

अवकाश लेना बनी मुसीबत

लोहरदगाके तत्कालीन एसपी चंद्रशेखर प्रसाद को एक दिन का अवकाश लेना महंगा पड़ गया। आरोप है कि उन्होंने एक दिन का अवकाश लिया, लेकिन इसकी सूचना आयोग को नहीं दी। इसी कारण आयोग ने उन्हें हटाने का आदेश दिया।

छुट्टी ली थी, आगे भी लेंगे : अवध बिहारी

पुलिस मुख्यालय को कई बार भेजी रिपोर्ट

इस संबंध में पूछे जाने पर साहेबगंज के तत्कालीन एसपी अवध बिहारी राम ने कहा कि उन्हें जॉन्डिस हो गया था। इस कारण वह सितंबर और अक्टूबर में अवकाश पर रहे। इसकी लिखित सूचना उन्होंने डीआईजी आईजी कार्यालय को दे दी थी। यह पूछे जाने पर कि पीलिया बीमारी में बगैर अवकाश के लगातार लंबी छुट्टी पर रहे थे, राम बिदक गए। कहा कि हां छुट्टी ली थी, आगे भी लेंगे।

दुमका आईजी और डीआईजी कार्यालय से साहेबगंज एसपी अवध बिहारी राम के अवकाश की अवधि खत्म होने के बाद भी ड्यूटी ज्वाइन नहीं करने की शिकायत कई बार पुलिस मुख्यालय से की गई। आचार संहिता लागू होने के बाद भी उनके अनुपस्थित रहने की सूचना चुनाव आयोग को भेज दी गई। इसके बाद आयोग ने त्वरित कार्रवाई की।

लोहरदगा के तत्कालीन एसपी चंद्रशेखर प्रसाद ने बताया कि वह दो नवंबर को ड्यूटी पर थे। शाम में निकल गए। तीन नवंबर को अवकाश लिया था। चार नवंबर को पुन: ड्यूटी ज्वाइन की। अवकाश की सूचना पुलिस मुख्यालय को भेज दी थी