पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • बंगाल से आपूर्ति कम होने से चढ़े हैं भाव

बंगाल से आपूर्ति कम होने से चढ़े हैं भाव

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महंगे आलू से फिलहाल नहीं मिलेगी निजात

महंगेआलू से आपको तत्काल निजात नहीं मिलने वाली है। इसके लिए करीब एक महीना इंतजार करना पड़ेगा। देश में आलू पिछले कई महीने से महंगा बिक रहा है। रांची में पुराने आलू का खुदरा भाव 24 से 28 रुपए है और नया आलू 30 से 35 रुपए किलो बिक रहा है। सरकार द्वारा आयात करने के फैसले से हफ्ते भर में कीमतों में मामूली गिरावट तो हुई है। लेकिन मंडियों में आवक अभी कमजोर है। नई फसल आने में थोड़ा वक्त है। आलू आयात कर उसे बाजार तक पहुंचाने में भी अभी समय लगेगा।

दिल्ली की आजादपुर मंडी के अध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा ने बताया कि पंजाब से आलू की आवक शुरू हो गई है। कोल्ड स्टोर में अब सामान्य स्टॉक का केवल 10 प्रतिशत आलू ही बच गया है। ऊंची कीमत को देखते हुए किसान और कारोबारी वहां से आलू निकाल रहे हैं। रांची के कारोबारियों का कहना है कि अभी नए आलू की पूरी तरह से आपूर्ति नवंबर के अंत तक होगी।

ममता सरकार के प्रतिबंध का असर

पश्चिमबंगाल दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है। लेकिन जब आलू के दाम बढ़ने शुरू हुए थे तब ममता सरकार ने राज्य से बाहर आलू ले जाने पर रोक लगा दी थी। उनका तर्क था कि राज्य के लोगों को सस्ता आलू मिले।

आलू की खपत

सब्जी68.51%

फसल का नुकसान 12.5%

बीज 10.51%

प्रोसेसिंग (चिप्स आदि) 8.20%

निर्यात 0.28 %

(स्रोत- सीपीआरआई)

भारत में आलू उत्पादन

2010-11423.4

2011-12 414.8

2012-13 453.4

2013-14 466.1

चीन और रूस के बाद भारत तीसरा सबसे बड़ा आलू उत्पादक है। भारत के बाद अमेरिका का नंबर आता है। नवंबर में पंजाब से नए आलू की आवक शुरू होती है। देश में इसकी खपत 19 से 20 किलो प्रति व्यक्ति सालाना है।

सबसे बड़े उत्पादक राज्य

भारत तीसरा बड़ा उत्पादक

रांची में 90 प्रतिशत आलू पश्चिम बंगाल से आता है। यहां की सरकार द्वारा झारखंड को आलू की आपूर्ति सीमित (100 क्विंटल प्रति दिन) किए जाने के बाद से आलू के भाव चढ़े हुए हैं। इस समय उत्तर प्रदेश में भी आलू का स्टॉक कम है। इस कारण आवक काफी महंगा हो गया है। व्यापारी यूपी से आलू नहीं मंगा रहे हैं। आलू-प्याज के कारोबारी संजय साहू ने बताया आपूर्ति सीमित होने के बावजूद चोरी-छिपे पर्याप्त आलू झारखंड पहुंच ही रहा है। गुरुवार को पंडरा मंडी में सफेद-आलू 2000 से 2030 रुपए क्विंटल बिका। वहीं छत्तीस