पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • State President On The Decision Was Difficult,

एक अनार सौ बीमार , प्रदेश अध्यक्ष पर फैसला लेना हुआ कठिन, पूरी कोर कमेटी हो गयी है दावेदार

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक



रांची . भाजपा के नये प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा अगले सप्ताह कर दी जाएगी। गुरुवार को दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री सौदान सिंह तथा प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने प्रदेश अध्यक्ष डॉ. दिनेशानंद गोस्वामी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रघुवर दास समेत पार्टी के अन्य नेताओं से मुलाकात की और इनकी भावनाओं को समझा। नेताओं की रायशुमारी के बाद आए नामों में से किसी एक पर अब पार्टी हाईकमान अपनी मुहर लगाएगा।

पार्टी हाईकमान ने रायशुमारी के लिए पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा को भी बुलाया था पर वह निजी कारणों से दिल्ली नहीं गये। पार्टी की ओर से बताया गया कि चाचा के निधन के अर्जुन मुंडा दिल्ली नहीं गये हैं। प्रदेश अध्यक्ष दिनेशानंद गोस्वामी ने कहा कि संगठन के संबंध में नेताओं से बात हुई है।

रघुवर-सरयू पहले से जमे, गोस्वामी भी पहुंचे
पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रघुवर दास, पूर्व विधायक सरयू राय, सुनील सिंह, समेत पार्टी के कई नेता पहले से ही दिल्ली में जमे हुए हैं। इन्होंने पार्टी के बड़े नेताओं से संपर्क कर उन्हें प्रदेश की स्थिति से अवगत कराया है। इसके बाद हाईकमान ने पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा, प्रदेश अध्यक्ष दिनेशानंद गोस्वामी तथा रघुवर दास को दिल्ली बुलाया था। ताकि इनसे विचार विमर्श कर नये अध्यक्ष की घोषणा की जा सके।इसी क्रम में प्रदेश अध्यक्ष डा. दिनेशानंद गोस्वामी राकेश प्रसाद के साथ गुरुवार को दिल्ली पहुंचे और पार्टी के नेताओं से बातचीत की।

अपने सूत्रों को भी टटोलेंगे राजनाथ
राजनाथ सिंह लंबे समय तक झारखंड से जुड़े रहे हैं। राज्य गठन के बाद प्रदेश संगठन को हर बार संकट से उबारने में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रही है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि वह रायशुमारी में सबकी बातों को सुनने के बाद अपने स्तर से भी जानकारी जुटाएंगे। झारखंड की तमाम स्थितियों की जानकारी होने के कारण उनकी व्यक्तिगत राय भी महत्वपूर्ण होगी। वैसे माना जा रहा है कि झारखंड के मामले में अंतिम फैसला पार्टी के अन्य तमाम नेताओं की सहमति से ही लिया जाएगा।

धर्मेंद्र और हरेंद्र ने रांची में की थी रायशुमारी
प्रदेश अध्यक्ष के चयन के लिए एक दौर की रायशुमारी रांची में भी हो चुकी है। आठ फरवरी को इसी मुद्दे पर पार्टी की कोर कमेटी व पदाधिकारियों की बैठक भी हुई थी। भाजपा के प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान और हरेन्द्र प्रताप उस दिन रांची आए थे और बैठक में शामिल हुए थे। इसके अलावा दोनों नेताओं ने अलग अलग भी प्रदेश के नेताओं से मुलाकात कर उनकी भावना समझी थी।

दो की लड़ाई में यशवंत को मिल सकता है मौका
अर्जुन मुंडा और रघुवर दास कैंप के नेताओं के बीच कमानें खिंचने के बाद प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में यशवंत सिन्हा की दावेदारी भी प्रबल हो गई है। भाजपा के हिंदुत्व की ओर लौटते रुख को देखते हुए यदुनाथ पांडेय के नाम की भी चर्चा है। इसके अलावा गणेश मिश्र के नाम पर भी सहमति बनाने का प्रयास किया जा सकता है। वैसे अभी तक रघुवर दास को प्रबल दावेदार माना जा रहा था, पर गुरुवार को हुई रायशुमारी के बाद यशवंत सिन्हा का नाम अचानक ही सुर्खियों में आ गया है।

फैसला हुआ पेचीदा, पूरी कोर कमेटी ही अध्यक्ष का दावेदार
झारखंड में प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव पार्टी हाईकमान के लिए भी मुश्किलों का सबब बना हुआ है। दरअसल प्रदेश कोर कमेटी जो प्रदेश अध्यक्ष के लिए नेताओं के नामों की अनुशंसा करती है, उसके दो सदस्य जिनमें दोनों प्रदेश प्रभारी हैं को छोड़कर लगभग सभी सदस्य स्वयं अध्यक्ष पद के दावेदार हैं। इसके अलावा प्रदेश भाजपा कई खेमों में बंटी है। मुख्य रूप से अर्जुन मुंडा और रघुवर दास के कैंप में। मजेदार यह है कि दोनों कैंप के प्रमुखों ने भी प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष तौर पर जिम्मेवारी लेने की इच्छा जता दी है। इनके अलावा कोर कमेटी में शामिल प्रदेश अध्यक्ष डा. दिनेशानंद गोस्वामी, राकेश प्रसाद, रामटहल चौधरी, रवींद्र राय, सरयू राय, दीपक प्रकाश, सुनील सिंह पद के प्रबल दावेदार हैं।