पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • No Fast Food, The Sweet Poison That You Are Eating

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फास्ट फूड नहीं, यह मीठा जहर है जिसे खा रहे हैं आप!

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चक्रधरपुर. फास्ट फूड यानी फटाफट भोजन। मौजूदा दौर में इसका प्रचलन बढ़ता ही जा रहा है। काम की जल्दबाजी के कारण लोगों को इतना ध्यान नहीं रहता कि ठेले पर मिलने वाले चाउमिन, क ई दिनों के जले हुए तेल में छना पकौड़ा खाकर हम अपनी सेहत के साथ क्या कर रहे हैं। आज हर चौक-चौराहे पर फास्ट फूड की दुकान व ठेले मिल जाएंगे। हॉस्टल में रहने वाले छात्र हों या ऑफिस में काम करने वाले, सब इन ठेलों पर मिलने वाले सामान खाकर घर का खाना भूल जाते हैं। सुबह और शाम दोनों समय ठेले लगाए जाते हैं। चिकित्सकों के मुताबिक, टीवी में आने वाले विज्ञापनों के कारण बच्चे भी फास्ट फूड की ओर आकर्षित हो रहे हैं। फास्ट फूड अनहाइजेनिक तो है ही, स्वास्थ्य के लिए मीठा जहर है। बरसात के मौसम में यह सेहत के लिए कतई ठीक नहीं है। बारिश में परहेज जरूरी ठेलों पर मिलने वाले व्यंजनों को बरसात में खाना हितकर नहीं है। यदि इन्हें खाने का मन करे, तो घर में बनाकर खाना चाहिए। बारिश के मौसम में ठेले पर बिकने वाले व्यंजन खाने से फूड प्वाइजनिंग हो सकती है। पेट में गैस की समस्या भी आएगी। नकली सॉस का हो रहा प्रयोग इन दिनों चाउमीन, पीजा, बर्गर, पावभाजी आदि में नकली सॉस के प्रयोग की बात भी सामने आई है। यह सॉस कद्दू और कोहड़ा से बनाया जाता है। इसमें जो मसाले प्रयोग किए जाते हैं, वे भी अति निम्न स्तर के होते हैं। ब्राडेंड कंपनी के सॉस महंगा रहने के कारण ठेले वाले लोकल सॉस का इस्तेमाल करते हैं। जले तेल का होता है प्रयोग ठेला संचालक जले तेल का कई दिनों तक प्रयोग करते हैं। एक ही तेल में समोसा, कचौड़ी, पकौड़ा बनाया जाता है। यही हाल चाउमिन वाले ठेले पर दिखता है। यहां एक ही प्लेट में वेज व नॉनवेज बना दिया जाता है। भूने हुए चाउमिन को कई घंटे तक यूं ही खुला रखने के बाद उसे फिर से भून दिया जाता है। तेल भी नहीं बदला जाता है। जो तेल बच जाता है, उसे दूसरे दिन फिर प्रयोग किया जाता है। गंदे पानी से धोते हैं प्लेट-गिलास शहर में होटल के अलावा ठेला संचालक खाने के प्लेट और गिलास गंदे पानी से धोते हैं। एक टब में कई दिनों का पानी रहता है। उस टब में थोड़ा सर्फ डाल देने के बाद दिनभर उस पानी में केवल प्लेट को डूबोकर निकाल लिया जाता है, जो ठीक से साफ नहीं रहता। यह सफाई कई रोगों को जन्म देती है। इसमें कब्ज, गेस्ट्रिक, विटामिन की कमी, बवासीर, लीवर डिसऑर्डर, जौंडिस, लीवर इंफेक्शन, स्किन डिजीज प्रमुख हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

और पढ़ें