पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Research Center Of The Regional Languages Will Be

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

क्षेत्रीय भाषाओं का होगा अनुसंधान केंद्र : सुदेश

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बोकारो. राज्य में सभी क्षेत्रीय भाषाओं के लिए अनुसंधान केन्द्र खोला जाएगा। अनुसंधान केन्द्रों में उस भाषा का पुस्तकालय भी होगा। इसकी शुरुआत बोकारो में खोरठा कला संस्कृति एवं अनुसंधान केंद्र के शिलान्यास कर दी गई है। उक्त बातें उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो ने शुक्रवार को चास प्रखंड परिसर में लगभग एक करोड़ 65 लाख की लागत से बनने वाले केन्द्र भवन के शिलान्यास के बाद कहीं। महतो ने कहा कि आज का दिन कला, संस्कृति और इससे जुड़े विद्वानों के लिए सुखद है। इससे जुड़े लोगों को अपने विचार व्यवस्थित करने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ा है। खोरठा भाषा का उपयोग यहां के चार-पांच जिलों के लोग करते हैं। इसके अनुसंधान के लिए बोकारो को केन्द्र बिंदु बनाया गया है। उन्होंने कहा कि अनुसंधान केन्द्र को संचालित करने के लिए कमेटी का गठन होगा, जिसका चयन इस भाषा, संस्कृति से जुड़े लोग करेंगे। साहित्यकारों को सम्मान खोरठा भाषा से जुड़े साहित्यकार, गीतकार, लेखक, कवि, कलाकार आदि को उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो ने सम्मानित किया। सम्मानित होने वालों में डॉ एके झा, डॉ दिनेश दिनमणि, गिरिधारी गोस्वामी, महेन्द्र नाथ सुधाकर, मनपूरण गोस्वामी, प्रो. मुरलीधर महतो, आनंद महतो, एम कपरदार, एम तुरी, सुरेन्द्र रजवार, शिवपूजन साहू, कुमारी आशा, दांदू गोप, एन महतो, एसएस महतो, शांति भारत, वंशीलाल वंशी, परितोष कुमार प्रजापति, जगदीश महतो आदि शामिल हैं। खोरठा को जीवंत करने का प्रयास झारखंड वन निगम के अध्यक्ष सह चंदनकियारी विधायक उमाकांत रजक ने कहा कि खोरठा भाषा को जीवन देने के लिए अनुसंधान केन्द्र की स्थापना की जा रही है। इस भाषा को जिन्दा रखने के लिए यहां के कवि, साहित्यकार, लेखक, कलाकार आदि ने बहुत मशक्कत की है। आज उसी का परिणाम है कि इसके लिए अनुसंधान केन्द्र खुल रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

और पढ़ें