विज्ञापन

पैरों से सिखाते हैं पेंटिग बनाना, समर कैंप में सीखने आते हैं बच्चे / पैरों से सिखाते हैं पेंटिग बनाना, समर कैंप में सीखने आते हैं बच्चे

उदय भास्कर

May 25, 2015, 12:07 AM IST

उनके साहस और लगन को देख राज्य सरकार गोल्ड मैडल से सम्मानित कर चुकी है।

बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार। बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार।
  • comment
जम्मू। मन में दृढ़ इच्छाशक्ति और काम करने की लगन इंसान को बिपदाओं के बावजूद कहीं से कहीं पहुंचा देती है। शारीरिक रूप से अक्षम उधमपुर जिले के उत्तम कुमार को पेंटिग के शौक ने उन्हें कलाकार बना दिया। तमाम तरह की परेशानियों के बाबजूद भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और पेंटिग बनाने के काम को जारी रखा। उनके साहस और लगन को देख राज्य सरकार गोल्ड मैडल से सम्मानित कर चुकी है। उत्तम का सफर यहीं नहीं रुका। अपनी कला को आगे बढ़ाने के लिए बच्चों के लिए गर्मियों में समर कैंप लगाते हैं।
उधमपुर कस्बे से लगभग 80 किलोमीटर दूर डुडु-बसंतगढ़ के मजूरी गांव के रहने वाले उत्तम कुमार ने कभी सोचा नहीं था कि एक दिन उनकी अलग पहचान होगी। उत्तम कुमार के हाथों में बचपन से इतनी ताकत नहीं थी कि कुछ पकड़ सकें। थोड़ा बड़ा होने पर माता-पिता ने सरकारी स्कूल में दाखिल करवा दिया। पढऩे की लगन लिए उत्तम कुमार ने बाएं पैर से पेंसिल पकड़ लिखने का अभ्यास शुरू किया और धीरे धीरे लिखना शुरू कर दिया। स्कूल के दिनों में ही उनहें पेंटिग बनाने की रूचि पैदा हुई। दसवीं पास करने के बाद आगे पढऩे की ललक लिए उत्तम कुमार उधमपुर में अपने रिश्तेदारों के पास आ गए। यहां भी उनके पेंटिग का शौक नहीं छूटा और अभ्यास जारी रखा।
आगे की स्लाइड्स में पढ़े पूरी खबर...

बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार। बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार।
  • comment
कड़ी मेहनत के बाद भई नहीं मिली कीमत
उत्तम कुमार बताते हैं कि उनके कुछ स्कूल के साथियों ने वोकेशनल ट्रेनिंग लेने की सलाह दी। बढिय़ा पेंटिग बनाने की ललक पूरी करने के लिए बसोहली आर्ट पेंटिग सीखी। उत्तम एक से एक सुंदर बसोहली पेंटिग बनानी शुरू कर दी।  लेकिन इन पेंटिंग को ऐसे खरीददार नहीं मिले जो रोजी-रोटी चला सकें। बसोहली आर्ट को समझने वाले भी सिर्फ 500 से हजार रुपए तक पेंटिग के लिए देते और बनाने में महीना लग जाता। हालांकि यह पेंटिग बड़े बाजारों में हजारों, लाखों में बिकती हैं। इन पेंटिग को बनाने के लिए गुजरात से रंग और ब्रश मंगवाने पड़ते हैं जो कीमती हैं। ऐसे में परिवार का गुजारा चलाने के लिए उत्तम कुमार ने आयल पेंटिग बनाना शुरू कर दिया। बीच में गुलदस्ते और कागजी फूल बनाने का काम भी शुरू किया लेकिन काम जमा नहीं। उत्तम की कला को पहचानते हुए उनकी पेंटिग को श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने भी खरीदा। लेकिन बाद में उन्हें और मौका नहीं दिया।
 
आगे की स्लाइड्स में पढ़े पूरी खबर...
उत्तम कुमार का परिवार। उत्तम कुमार का परिवार।
  • comment
बिपदा में नहीं हारा हौसला
उत्तम कुमार के जीवन झंझावातों से भरा हुआ है। बचपन में हाथ पहले की काम नहीं करते थे। किसी तरह 12वीं पास कर पेंटिग के शौक से ही परिवार चलाने का सोचा। क्योंकि शारीरिक अक्षमता की वजह से भारी काम कर नहीं सकते और सिर्फ बायां पैर ही सहारा है। दायां पैर भी ठीक से नहीं पड़ता। एक हादसे में उनकी मां की बाईं आंख खराब हो गई और मुआवजा भी नहीं मिला। उपर से नवजात बेटे के पैदा होते ही शरीरिक समस्या उत्पन्न हो गई। कुछ चाहने वाले और मित्रों के सहयोग से बैंगलोर में आप्रेशन करवाया जो तुरंत जरूरी था। अब उनका बेटा बिलकुल ठीक है और स्कूल जाता है। आठवीं में पढऩे वाली उनकी बेटी अपने पिता का हमेशा ध्यान रखती है।
 
आगे की स्लाइड्स में पढ़े पूरी खबर...
शारीरिक अक्षमता के बावजूद शौक ने बनाया कलाकार
  • comment
बच्चों के लिए लगता है समर कैंप
उत्तम कुमार गर्मियों की छुट्टियों में बच्चों के लिए समर कैंप लगाते हैं। स्कूली बच्चों को पेंटिग की बुनियादी बारीकियों को सीखाते हैं। बच्चों को फल बनाने, स्कैचिंग, प्राकृतिक पेंटिग बनाना सीखाते हैं। इस बार भी गर्मियों की छुट्टियों में समर कैंप की तैयारियां चल रही हैं। उत्तम कुमार की ख्वाहिश है कि इस साल या अगले बरस गुजरात में अपनी पेंटिग की प्रदर्शनी लगाना चाहते हैं ताकि उनकी कला को देश में पहचान मिले।
X
बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार।बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार।
बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार।बाएं पैर से पेंटिंग बनाते उत्तम कुमार।
उत्तम कुमार का परिवार।उत्तम कुमार का परिवार।
शारीरिक अक्षमता के बावजूद शौक ने बनाया कलाकार
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन