पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खुद जाल में फंसा था आतंकी बुरहान; सेना ने घेरा तब नशे में था, 4 फीट दूर से मारा गया

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीनगर। हिजबुल का पोस्टर ब्वॉय और खूंखार आतंकी बुरहान वानी कैसे फंसा सेना के जाल में? वो खुद वहां आया था या बुलाया गया था? आतंकी के खात्मे का कैसे बना प्लान? इस मिशन में कितने लोग थे शामिल? पूरे एनकाउंटर की कहानी...खुद इस मिशन में शामिल वरिष्ठ अधिकारी ने दैनिक भास्कर की सीनियर रिपोर्टर उपमिता वाजपेयी को बताई...
- 8 जुलाई की शाम आर्मी कैंप में इन्फॉर्मेशन आई कि बुरहान वानी कोकरनाग के पास बमडूरा गांव के एक मकान में पहुंच चुका है। उसके पास ज्यादा हथियार नहीं हैं।
- इन्फॉर्मेशन पक्की थी। क्योंकि खुद इंटेलिजेंस और आर्मी ने वानी को उस गांव में लाने का प्लान बनाया था।
- इसीलिए एसओजी यानी स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप को पहले ही उस गांव के पास बुलवा लिया गया था।
- वानी को उसकी एक गर्लफ्रेंड के जरिए बुलाया गया था। वानी अपने साथी सरताज के साथ ही चलता था। सरताज का फोन खुफिया एजेंसियों की रडार पर था।
- उस दिन भी वानी अपने दोस्त सरताज और परवेज के साथ ही था। (आतंकी बुरहान की मौत से सदमे में पाक के पीएमः यहां पढ़ें डिटेल रिपोर्ट)
जहां वानी छुपा था वहां पहले आग लगाई गई
- पूरी तरह से कन्फर्म होने के बाद आर्मी ने 100 जवानों और पुलिस एसओजी के 35-36 जवानों के साथ मिलकर कोकरनाग इलाके में डबल लेयर का घेरा डाल लिया।
- सेना वानी के खात्मे का ये सुनहरा मौका चूकना नहीं चाहती थी।
- सीधे फायरिंग करने के बजाय इलाके के जिस घर में बुरहान वानी छिपा था, वहां पीछे से आग लगाई गई।
- इस्लाम के मुताबिक, आग में जलकर मरने से दोजख (नर्क) में जाते हैं। यही वजह थी कि आग लगते ही वानी और उसके साथी बाहर भागे।
- वानी उस वक्त नशे में था। उससे भागते भी नहीं बन रहा था। परवेज और सरताज ही उसका हाथ पकड़े हुए थे।
- मौका देख जवानों ने उसे घेर लिया। वानी कुछ कहता या करता, इससे पहले ही महज चार फीट की दूरी से उसे गोलियां मार दी गईं।
- जवानों का पहला टारगेट सिर्फ वानी था।
- बाकी के दो आतंकियों को जिंदा पकड़ने का प्लान था, लेकिन परवेज और सरताज की तरफ से हरकत होते देख जवानों ने उन पर भी ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं।
- तीनों का खात्मा हो चुका था। जवानों ने फौरन तलाशी ली। वानी के पास उस समय सिर्फ एक पिस्टल थी।
- आमतौर पर वह बुलेटप्रूफ जैकेट और कॉम्बेट ड्रेस पहने रहता था। फिर चाहे वह अपने ठिकाने पर बैठकर सोशल मीडिया का वीडियो ही क्यों न रिकॉर्ड कर रहा हो। लेकिन उस दिन वह सिविल ड्रेस में था।
- वह ईद मिलन के बहाने वहां बुलाया गया था। करीब डेढ़ घंटे के ऑपरेशन के बाद टीम ने अपने अधिकारियों को कन्फर्मेशन भेजा- बुरहान वानी मारा गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

और पढ़ें