विज्ञापन

कलियुग में भी जन्मे थे पांडव, जानिए कहां और किसके घर लिया था जन्म

Dainik Bhaskar

Dec 27, 2017, 05:00 PM IST

पांडवों से जुड़ी एक रोचक कहानी, जिसे बहुत ही कम लोग जानते होंगे

pandavas of mahabharat in kaliyug
  • comment

यह बात को लगभग हर किसी को पता ही होगी कि महाभारत युद्ध के अंत में अश्वत्थामा ने आधी रात के समय पांडवों के सभी पुत्रों का वध कर दिया था। लेकिन इनसे बाद क्या हुआ था इसका वर्णन भविष्य पुराण में है।

भविष्यपुराण के अनुसार, आधी रात के समय अश्वत्थामा, कृतवर्मा और कृपाचार्य यो तीनों पांडवों के शिविर के पास गए और उन्होंने मन ही मन भगवान शिव की आराधना कर उन्हें प्रसन्न कर लिया। इसपर भगवान शिव ने उन्हें पांडवों के शिविर में प्रवेश करने की आज्ञा दे दी। जिसके बाद अश्र्वत्थामा में पांडवों के शिविर में घुसकर शिवजी से प्राप्त तलवार से पांडवों सभी पुत्रों का वध कर दिया और वहां से चले गए।

जब पांडवों को इसके बारे में पता चला तो उन्होंने इसे भगवान शिव की ही करनी समझकर उनसे युद्ध करने के लिए चले गए। जैसे ही पांडव शिवजी से युद्ध करने के लिए उनके सामने पहुंचे उनके सभी अस्त्र-शस्त्र शिवजी में समा गए और शिवजी बोले तुम सभी श्रीकृष्ण के उपासक को इसलिए इस जन्म में तुम्हे इस अपराध का फल नहीं मिलेगा, लेकिन इसका फल तुम्हें कलियुग में फिर से जन्म लेकर भोगना पड़ेगा।


भगवान शिव की यह बात सुनकर सभी पांडव दुखी हो गए और इसी विषय में बात करने और इसका हल जानने के लिए श्रीकृष्ण के पास पहुंच गए, तब श्रीकृष्ण ने उन्हें बताया कि कौन-सा पांडव कलियुग में कहां और किसके घर जन्म लेगा।


ग्राफिक्स में जानिए कौन-से पांडव ने कलयुग में कहां और किस नाम से लिया था जन्म...

pandavas of mahabharat in kaliyug
  • comment
pandavas of mahabharat in kaliyug
  • comment
pandavas of mahabharat in kaliyug
  • comment
pandavas of mahabharat in kaliyug
  • comment
pandavas of mahabharat in kaliyug
  • comment
pandavas of mahabharat in kaliyug
  • comment
X
pandavas of mahabharat in kaliyug
pandavas of mahabharat in kaliyug
pandavas of mahabharat in kaliyug
pandavas of mahabharat in kaliyug
pandavas of mahabharat in kaliyug
pandavas of mahabharat in kaliyug
pandavas of mahabharat in kaliyug
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें