--Advertisement--

जो लोग सूर्य को देखकर करते हैं ये 1 काम, उन्हें कभी परेशान नहीं करते यमदूत

ऐसे लोगों को कभी परेशान नहीं करते यमदूत, लिखा है भविष्य पुराण में

Dainik Bhaskar

Feb 20, 2018, 05:00 PM IST
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran

भविष्य पुराण के ब्रह्मपर्व के अध्याय 112 के अर्तगत एक ऐसे रोचक किस्सा पाया जाता है, जो भगवान सूर्य के साथ-साथ स्वयं यमराज के जुड़ा है। भविष्य पुराण के अनुसार, यमराज अपने दूतों को धरती पर घूमते हुए मनुष्यों पर निगरानी करने का और उन्हें दण्ड देने का या छोड़ने का आदेश देते हैं।

ऐसे में यमराज अपने यमदूतों को धरती पर मौजूद कुछ लोगों को कभी भी परेशान न करने का आदेश देते हैं। उन लोगों का संबंध भगवान सूर्य और उनकी उपासना से है।

जानिए किन लोगों को कभी परेशान नहीं करते यमराज...

1. यमराज अपने दूतों से कहते हैं कि जो लोग सूर्य देव की उपासना करते हो, उनकी पूजा-अर्चना करते हो, उन्हें तुम छोड़ देना।

2. जो लोग रोज भगवान सूर्य देव के लिए यज्ञ करते हो, उन्हें तुम दृष्टि उठाकर भी मत देखना। अगर तुम लोग ऐसे करोगे तो तुम लोगों की गती वहीं रूक जाएगी।

3. जो लोग फूल, धूप बत्ती और जल आदि से सूर्य देव की पूजा करते हो, तुम उन लोगों को भूल से भी मत पकड़ना। क्योंकि ऐसे लोग मेरे पिता के मित्र होते हैं।

4. सूर्यदेव का मंदिर की सफाई करने वाले लोग महान होते हैं तो ऐसे लोगों की तीन पीढ़ियों को तुम कष्ट मत देना यानी उन्हें छोड़ देना।

5. जिन लोगों ने सूर्य देव का मंदिर का निर्माण किया हो चाहे घर में या बाहर, ऐसे कुल में जन्में पुरुषों पर भी तुम लोग किसी तरह की बुरी नजर मत डालना।

आगे देखें खबर का ग्राफिकल प्रेजेंटेशन...

story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
X
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
story of yamraj and surya dev in bhavishya puran
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..