विज्ञापन

भूलकर भी न बचें ये 5 चीजें वरना पीछा नहीं छोड़ेगा दुर्भाग्य

यूटीलिटी डेस्क

Jan 26, 2018, 07:28 PM IST

विष्णु पुराण के अनुसार दान देने वाली चीजों को बेचना नहीं चाहिए। इस धर्मग्रंथ में कुछ ऐसी ही चीजों के बारे में बताया गया

naver sell these 5 things
  • comment

विष्णु पुराण के अनुसार दान देने वाली चीजों को बेचना नहीं चाहिए। इस धर्मग्रंथ में कुछ ऐसी ही चीजों के बारे में बताया गया है जिन्हें धन के लालच में आकर नहीं बेचना चाहिए। ऐसा करने से उस इंसान से लक्ष्मी नाराज हो जाती है। इस पुराण के अलावा पाराशर, याज्ञवल्क्य स्मृति और आपस्तम्ब धर्मसूत्र में भी ऐसी कई गलतियाें के बारे में बताया गया है जो ज्यादातर लोग जाने अनजाने में अक्सर करते हैं।
विष्णु पुराण में कही गई बातें विष्णु जी ने माता लक्ष्मी, नारद और अपने वाहन गरुड़ को बताई है। धर्म और अधर्म को ध्यान में रखकर उन बातों को बताया गया है।

कुछ ऐसी ही बातें जिनके अनुसार आपको 5 तरह की चीजें नहीं बेचनी चाहिए। जो व्यक्ति ऐसा करता है। उसके जीवन में दुःख, तकलीफें और आर्थिक तंगी आने लगती हैं।

आगे पढ़ें कौन-सी 5 चीजें भूलकर भी नहीं बेचनी चाहिए -

naver sell these 5 things
  • comment

भोजन -  

धर्मग्रंथ के अनुसार किसी भूखे व्यक्ति को भोजन देकर उससे धन लेना पाप होता है। विष्णु पुराण के अनुसार भोजन दान देने वाली चीजों में आता है। धन के लालच में किसी को दिया गया भोजन महापाप की श्रेणी में आता है।

 

naver sell these 5 things
  • comment

दही और छाछ -  

विष्णु पुराण के अनुसार दही और छाछ को भी गौरस माना गया है। इनको बेचना नीच कर्म होता है। चुंकि दही पंचामृत में आने वाले 5 अमृतों में से एक माना गया है। इसलिए शास्त्रों के अनुसार इसका विक्रय करना अपराध माना जात हैं।

naver sell these 5 things
  • comment

घी -

घी को गौरस कहा जाता है। जो कि गाय के दूध को दही से छाछ बनाकर प्राप्त किया जाता है। इसे भी पांच अमृतों में से एक माना गया है। धर्मग्रंथ के अनुसार इस पवित्र चीज को बेचने वाला महापापी होता है। जहां इसको बेचा जाता है वहां लक्ष्मी नहीं रहती और दुर्भाग्य बढ़ने लगता है।

naver sell these 5 things
  • comment

नमक -

कई पुराणो में लवण दान का महत्व बताया गया है। धर्मसूत्रों और स्मृति ग्रंथों के अनुसार  लवण यानी नमक दान करने वाली चीजों की श्रेणी में आता है। इसे बेचने वाले अधर्मी माना जाता  हे। इसलिए नमक बेचने से दुर्भाग्य बढ़ने लगता है।

naver sell these 5 things
  • comment

शहद -

 

शास्त्रों में शहद को भी पांच अमृतों में से एक माना गया है। फूलों के रस से बने हुआ शहद मधुमक्खियों की मेहनत से बनता है और उसको बेचना भी महापाप माना गया है। इस तरह का अधर्म करने वाला व्यक्ति कभी सुखी नहीं रहता 

X
naver sell these 5 things
naver sell these 5 things
naver sell these 5 things
naver sell these 5 things
naver sell these 5 things
naver sell these 5 things
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन