--Advertisement--

शादी के समय लड़का-लड़की एक-दूसरे को करते हैं कौन-से 7 प्रॉमिस, जानते हैं आप?

7 फेरों के बिना अधूरी मानी जाती है शादी, जानें क्या है उनका मतलब

Danik Bhaskar | Dec 03, 2017, 05:00 PM IST

विवाह हिंदू धर्म के सोलह संस्कारों में से एक माना जाता है। विवाह की सबसे खास रस्म मानी जाती है सात फेरे। पति और पत्नी अग्नि को साक्षी मानकर एक-दूसरे को 7 वचन देते हैं और जीवनभर उन वचनों का पालन करने की कसम भी खाते हैं। विवाह के दौरान पंडित इन 7 वचनों का संस्कृत भाषा में बोलते हैं, लेकिन आज हम आपको उन्हीं सातों फेरों का हिंदी अनुदार करके बताने जा रहे हैं। इससे आप विवाह के दौरान लिए जाने वाले 7 फेरों का मतलब और महत्व जान पाएंगे...

आगे की स्लाइड्स पर जानें अन्य 6 फेरों के अर्थ...