Sanskar Aur Sanskriti

--Advertisement--

पूजा घर में हमेशा रखना चाहिए ये 1 सामान, इससे दूर होती हर तरह की नेगेटिव एनर्जी

किसी भी धार्मिक कार्य के दौरान शंख की ध्वनि पैदा करना हिंदू धर्म की एक बड़ी और महत्वपूर्ण विशेषता है।

Dainik Bhaskar

Dec 11, 2017, 01:12 PM IST
shankh shankh

किसी भी धार्मिक कार्य के दौरान शंख की ध्वनि पैदा करना हिंदू धर्म की एक बड़ी और महत्वपूर्ण विशेषता है। सदियों से प्रचलित इस धार्मिक विधि को पूजा-पाठ और रीति-रिवाजों के दौरान जरूर अपनाया जाता है। शंख रखने, बजाने व इसके पानी का उचित इस्तेमाल करने से कई तरह के लाभ होते हैं। कई फायदे तो सीधे तौर पर सेहत से जुड़े हैं। पूजा में शंख बजाने और इसके इस्तेमाल से क्या-क्या फायदे होते है आइए जानते हैं...

1. ऐसी मान्यता है कि पूजा आरंभ करने के पहले 3 बार शंख बजाने से वातावरण से सभी तरह की अशुद्धियां दूर होती हैं और नकारात्मक ऊर्जा का क्षय हो जाता है।


2. कोई भी पूजा आरती के बिना पूर्ण नहीं मानी जाती और आरती के अंत में भी शंख ध्वनि आवश्यक है। पूजा स्थल पर विविध देवी-देवताओं या प्राकृतिक शक्तियों की ऊर्जा का प्रवाह र्निविघ्न रूप से हो सके तथा रज-तम का प्रभाव मंद होकर सत तत्व की प्रधानता स्थापित हो, इसलिए पूजा के अंत में भी आरती के दौरान शंख बजाने का प्रावधान है।

अगली स्लाइड पर पढ़ें- पूजा घर में शंख रखने के और खास फायदे...


shankh shankh

3. शंख बजाते समय व्यक्ति की ग्रीवा ऊपर की ओर (भगवान के सामने) होनी चाहिए। साथ ही, उसे बजाने वाले को पूर्ण रूप से ध्यान मग्न अवस्था में स्थिर हो जाना चाहिए।

 

4. घर की तिजोरी में शंख रखने पर भगवान विष्णु और लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है और घर में कभी आर्थिक तंगी नहीं होती है। विशेषकर दक्षिणावर्ती शंख।

 

5. शंख के जल से श‍िव, लक्ष्मी आदि का अभि‍षेक करने से ईश्वर प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपा होती है।

 

 

 

shankh shankh

6. ब्रह्मवैवर्त पुराण में कहा गया है कि शंख में जल रखने और इसे छ‍िड़कने से वातावरण शुद्ध होता है।

 

7. शंख की आवाज लोगों को पूजा-अर्चना के लिए प्रेरित करती है। ऐसी मान्यता है कि शंख की पूजा से कामनाएं पूरी होती हैं। इससे दुष्ट आत्माएं पास नहीं फटकती हैं।

 

8. वैज्ञानिकों का मानना है कि शंख की आवाज से वातावरण में मौजूद कई तरह के जीवाणुओं-कीटाणुओं का नाश हो जाता है।

 


 

shankh shankh

9. आयुर्वेद के मुताबिक, शंखोदक के भस्म के उपयोग से पेट की बीमारियां, पथरी, पीलिया आदि कई तरह की बीमारियां दूर होती हैं, हालांकि इसका उपयोग एक्सपर्ट वैद्य की सलाह से ही किया जाना चाहिए।

 

10. शंख बजाने से फेफड़े का व्यायाम होता है। पुराणों के जिक्र मिलता है कि अगर सांस का रोगी नियमि‍त तौर पर शंख बजाए, तो वह बीमारी से मुक्त हो सकता है।

 

11. शंख में रखे पानी का सेवन करने से हड्डियां मजबूत होती हैं।यह दांतों के लिए भी लाभदायक है। शंख में कैल्श‍ियम, फास्फोरस व गंधक के गुण होने की वजह से यह फायदेमंद है।

X
shankhshankh
shankhshankh
shankhshankh
shankhshankh
Click to listen..