विज्ञापन

पीपल को इस दिन जल कभी नहीं चढ़ाना चाहिए, इससे घर आती है गरीबी

Dainik Bhaskar

Dec 27, 2017, 02:58 PM IST

पीपल का शुद्ध तत्सम नाम अश्वत्थ है।

Why Is The Worship Of Peepal Tree On Saturday
  • comment

रिलिजन डेस्क. पीपल का शुद्ध तत्सम नाम अश्वत्थ है। यह हिंदूओं का सबसे पूज्य वृक्ष है। इसे विश्व वृक्ष, चैत्य वृक्ष और वासुदेव भी कहा जाता है। हिंदू दर्शन की मान्यता है इसके पत्ते-पत्ते में देवता का वास रहता है। विशेषकर विष्णु का। ऋगवेद में अश्वत्थ की लकड़ी के पात्रों का उल्लेख मिलता है। अथर्ववेद और छंदोग्य उपनिषद में इस वृक्ष के नीचे देवताओं का स्वर्ग बताया गया है। इस पेड़ की पूजा के कई धार्मिक और वैज्ञानिक कारण हैं। साथ ही, कुछ नियम भी। माना जाता है जो इन नियमों को मानकर पीपल की पूजा करता है वो निहाल हो जाता है, जबकि जो ध्यान नहीं रखता वो कंगाल हो जाता है। आइए जानते हैं पीपल की पूजा से जुड़े ऐसे ही कुछ धार्मिक वैज्ञानिक कारण और नियमों को...

धार्मिक कारण

श्रीमद्भगवदगीता में भगवान श्री कृष्ण ने कहा है कि च्अश्वत्थ: सर्ववृक्षाणाम, मूलतो ब्रहमरूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे, अग्रत: शिवरूपाय अश्वत्थाय नमो नम:ज् यानी मैं वृक्षों में पीपल हूं। पीपल के मूल में ब्रह्मा जी, मध्य में विष्णु जी व अग्र भाग में भगवान शिव जी साक्षात रूप से विराजित हैं। स्कंदपुराण के अनुसार पीपल के मूल में विष्णु, तने में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में भगवान श्री हरि और फलों में सभी देवताओं का वास है। भारतीय जन जीवन में वनस्पतियों और वृक्षों में भी देवत्व की अवधारणा की गई है और यही कारण है कि धार्मिक दृष्टि से पीपल को देवता मान कर पूजन किया जाता है।

अगली स्लाइड पर पढ़ें- पीपल के बारे में जानें विस्तार..

X
Why Is The Worship Of Peepal Tree On Saturday
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन