Sanskar Aur Sanskriti

--Advertisement--

नारद पुराण में बताया गया ये 1 काम रोज घर में करने से घर नहीं आती अलक्ष्मी

भगवान विष्णु के चमत्कारों पर आधारित ग्रंथ नारद पुराण में बताया गया है

Dainik Bhaskar

Dec 21, 2017, 03:11 PM IST
Astrology remedies for money problem

चरणामृत का अर्थ होता है भगवान के चरणों का अमृत और पंचामृत का अर्थ पांच अमृत यानि पांच पवित्र वस्तुओं से बना। दोनों को ही पीने से व्यक्ति के भीतर जहां सकारात्मक भावों की उत्पत्ति होती है वहीं यह सेहत से जुड़ा मामला भी है। चरणामृत क्या है जानिए....


शास्त्रों में कहा गया है- अकालमृत्युहरणं सर्वव्याधिविनाशनम्। विष्णो पादोदकं पीत्वा पुनर्जन्म न विद्यते।।

अर्थात - भगवान विष्णु के चरणों का अमृतरूपी जल सभी तरह के पापों का नाश करने वाला है। यह औषधि के समान है। जो चरणामृत का सेवन करता है उसका पुनर्जन्म नहीं होता है।

कैसे बनता चरणामृत - तांबे के बर्तन में चरणामृतरूपी जल रखने से उसमें तांबे के औषधीय गुण आ जाते हैं। चरणामृत में तुलसी पत्ता, तिल और दूसरे औषधीय तत्व मिले होते हैं। मंदिर या घर में हमेशा तांबे के लोटे में तुलसी मिला जल रखा ही रहता है।

चरणामृत लेने के नियम- चरणामृत ग्रहण करने के बाद बहुत से लोग सिर पर हाथ फेरते हैं, लेकिन शास्त्रीय मत है कि ऐसा नहीं करना चाहिए। इससे नकारात्मक प्रभाव बढ़ता है। चरणामृत हमेशा दाएं हाथ से लेना चाहिए और श्रद्घाभक्तिपूर्वक मन को शांत रखकर ग्रहण करना चाहिए। इससे चरणामृत अधिक लाभप्रद होता है। भगवान विष्णु के चमत्कारों पर आधारित ग्रंथ नारद पुराण में बताया गया है की भगवान के चरणों का अमृत यानि चरणामृत ग्रहण करने का कितना महत्व है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही फायदों को...

Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
X
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Astrology remedies for money problem
Click to listen..