कभी 12-13 जनवरी को मनाई जाती थी मकर संक्रांति, जानिए कैसे होने लगी 14 को / कभी 12-13 जनवरी को मनाई जाती थी मकर संक्रांति, जानिए कैसे होने लगी 14 को

जीवन मंत्र डेस्क

Jan 12, 2018, 05:00 PM IST

ज्योतिषियों के अनुसार, इस बार मकर संक्रांति पर किए जाने वाले स्नान, दान का महत्व 14 जनवरी, रविवार को ही रहेगा।

makar sankranti dates 2018

ज्योतिषियों के अनुसार, इस बार मकर संक्रांति पर किए जाने वाले स्नान, दान का महत्व 14 जनवरी, रविवार को ही रहेगा। पंडितों की मानें तो ये पर्व सन् 1900 से 1965 के बीच कई बार 12 और 13 जनवरी को मनाई गई थी। अब यह 14 जनवरी को मनाई जाने लगी है। आने वाले सालों में भी इसकी तारीख में बदलाव होगा और सन् 2047 के बाद अधिकांश बार 15 जनवरी को ही मकर संक्रांति आएगी। ऐसा अधिकमास व क्षय मास के कारण होगा।

इस संबंध में और अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें-

सन् 1900 से 1965 के बीच 25 बार मकर संक्रांति 13 जनवरी को मनाई गई थी। उससे भी पहले यह पर्व कभी 12 को तो कभी 13 जनवरी को मनाया जाता था। पं. लोकेश जागीरदार (खरगोन) के अनुसार, स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को हुआ था।

उनकी कुंडली में सूर्य मकर राशि में था यानी उस समय 12 जनवरी को मकर संक्रांति थी। 20 वीं सदी में मकर संक्रांति 13-14 जनवरी को, वर्तमान में 14 तो कभी 15 जनवरी को आती है। 21वीं सदी समाप्त होते-होते मकर संक्रांति 15-16 जनवरी को मनाई जाने लगेगी।

आगे जानिए सूर्य की गति और उससे जुड़ा गणित -

makar sankranti dates 2018

इसलिए आता है मकर संक्रांति की तारीख में अंतर - 

 

सूर्य हर महीने राशि परिवर्तन करता है। एक राशि की गणना 30 अंश की होती है। सूर्य एक अंश की लंबाई 24 घंटे में पूरी करता है। पंचांगकर्ता डॉ. विष्णु कुमार शर्मा (जावरा) के अनुसार, अयनांश गति में अंतर के कारण 71-72 साल में एक अंश लंबाई का अंतर आता है।
अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से एक वर्ष 365 दिन व छह घंटे का होता है, ऐसे में प्रत्येक चौथा वर्ष लीप ईयर भी होता है। चौथे वर्ष में यह अतिरिक्त छह घंटे जुड़कर एक दिन होता है। इसी कारण मकर संक्रांति हर चौथे साल एक दिन बाद मनाई जाती है।
makar sankranti dates 2018

हर साल आधे घंटे की देरी

प्रतिवर्ष सूर्य का आगमन 30 मिनट के बाद होता है। हर तीसरे साल मकर राशि में सूर्य का प्रवेश एक घंटे देरी से होता है। 72 वर्ष में यह अंतर एक दिन का हो जाता है। हालांकि अधिकमास-क्षयमास के कारण समायोजन होता रहता है। (पंडितों के अनुसार)
 
जानिए 13 जनवरी को कब-कब मनाई गई मकर संक्रांति-
सन् 1900, 01, 02, 05, 06, 09, 10, 13, 14, 17, 18, 21, 22, 25, 26, 29, 33, 37, 41, 45, 49, 53, 57, 61 व 1965 में।

 

15 जनवरी को मकर संक्रांति-

2012, 16, 20, 21, 24, 28, 32, 36, 40, 44, 47, 48, 52, 55, 56, 59, 60, 63, 64, 67, 68, 71, 72, 75, 76, 79, 80, 83, 84, 86, 87, 88, 90, 91, 92, 94, 95, 99 और 2100 में। (पंचांगों और पंडितों से मिली जानकारी के अनुसार।)
X
makar sankranti dates 2018
makar sankranti dates 2018
makar sankranti dates 2018
COMMENT