Rashi Aur Nidaan

--Advertisement--

मंगलवार को खास तिथि, सूर्यास्त से पहले कर लेंगे ये काम तो दूर हो सकती है पैसों कमी

जानिए अंगारक चतुर्थी से जुड़ी मान्यताएं

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 05:00 PM IST
अंगारक चतुर्थी, angarak chaturthi in hindi, ganeshji ke upay, how to worship to lord ganesh

यूटिलिटी डेस्क. मंगलवार 3 अप्रैल को वैशाख मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी है। मंगलवार को चतुर्थी होने से इसे अंगारक चतुर्थी भी कहा जाता है। इस तिथि पर भगवान गणेशजी के लिए विशेष पूजा की जाती है, व्रत किया जाता है और दान-पुण्य किए जाते हैं। यहां जानिए उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. दयानंद शास्त्री के अनुसार अंगारक चतुर्थी पर कौन-कौन से शुभ काम करना चाहिए...

अंगारक चतुर्थी से जुड़ी मान्यता

पं. शास्त्री के अनुसार इस चतुर्थी के संबंध में मान्यता है कि अंगारक यानी मंगल देव के तप करके भगवान गणेशजी को प्रसन्न किया था। गणेशजी ने प्रसन्न होकर मंगलदेव को वरदान दिया था कि जब-जब चतुर्थी मंगलवार को आएगी, उसे अंगारकी या अंगारक चतुर्थी के नाम से जाना जाएगा। इस दिन व्रत करने से पूरे साल भर की चतुर्थी व्रत का फल मिलता है, गणेशजी की कृपा से पैसों की कमी भी दूर हो सकती हैं।

इस दिन कर सकते हैं ये शुभ काम

सुबह जल्दी उठें और स्नान के बाद लाल वस्त्र धारण करें। घर के मंदिर में गणेशजी की मूर्ति को पंचामृत से, कच्चे दूध से और गंगाजल से स्नान कराएं। गणेशजी को लाल वस्त्र, मोदक, दूर्वा, लाल फूल, तिल के लड्डू चढ़ाएं।

धूप-दीप जलाएं। चावल, चंदन, अष्टगंध आदि से पूजन करें। इसके बाद गणपति का ध्यान करें और इस मंत्र का जाप 108 बार करें।

मंत्र- श्री गणेशाय नम:

- इस दिन अगर आप व्रत करते हैं तो फलाहार करें, अन्न का सेवन न करें। व्रत के नियमों का पालन करें।

- शाम को चांद निकलने से पहले गणेशजी की पूजा करें। पूजा की थाली में तिल और गुड़ के लड्डू, फूल, कलश में पानी, चंदन, धूप, केला या नारियल प्रसाद के तौर पर रखें।

- पूजा करते समय दुर्गा माता की भी पूजा करें।

- पूजा के बाद प्रसाद और लड्डुओं का प्रसाद अन्य लोगों को बाटें।

X
अंगारक चतुर्थी, angarak chaturthi in hindi, ganeshji ke upay, how to worship to lord ganesh
Click to listen..