Rashi Aur Nidaan

--Advertisement--

9 मार्च के बाद चमक जाएगी इन राशि राशियों की किस्मत, लेकिन मेष और कुंभ रहें सावधान

9 मार्च से गुरु ग्रह वक्री हो रहा है। इस कारण सभी 12 राशियों पर सीधा असर होने वाला है।

Dainik Bhaskar

Mar 06, 2018, 06:41 PM IST
effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects

शुक्रवार, 9 मार्च 2018 से बुधवार, 11 जुलाई 2018 तक लगभग चार माह के लिए गुरु वक्री हो रहा है। गुरु अभी तुला राशि में है और इसी राशि में वक्री रहेगा। हालांकि इस संबंध पंचांग भेद भी हैं और गुरु के वक्री होने की तिथि अलग-अलग बताई गई है। कुछ पंचांगों के अनुसार मार्गी गुरु राशि बदलकर वृश्चिक में जाएगा और पुन: वक्री होकर तुला में आएगा। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार गुरु तुला राशि में ही रहेगा और वक्री होने से सभी 12 राशियों पर इस ग्रह असर बदल जाएगा। कुछ राशियों के लिए गुरु की ये स्थिति शुभ रहने वाली है। यहां जानिए वक्री गुरु के कारण सभी 12 राशियों पर क्या असर होने वाला है...

मेष राशि

गुरु की पूर्ण सप्तम दृष्टि है, इसके वक्री होने से आत्म विश्वास कम हो सकता है। योजनाएं बिगड़ सकती हैं, बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। सहयोग करने वाले पीछे हट सकते हैं और कार्य स्थल पर विवाद हो सकता है। बुरे समय में परिवार से सहयोग मिलता रहेगा।

उपाय- विष्णु भगवान को घी का दीपक लगाएं।

वृषभ राशि

आपके लिए षष्ठम गुरु के वक्री होने से कुछ नकारात्मक प्रभाव नहीं होगा। काम तेजी के साथ पूरे होंगे। परिवार और साझेदारों से सहयोग मिलेगा। अधिकारी भी अनुकूल बने रहेंगे। यात्रा के योग हैं। वाहन का प्रयोग सावधानी से करना चाहिए।

उपाय- ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय का जाप 108 बार रोज करें।

मिथुन- गुरु की नवम पूर्ण दृष्टि राशि पर है। गुरु के वक्री होने से इसका प्रभाव कुछ कम हो सकता है। यह समय गलतियां सुधारने का है। कुछ करीबी लोगों को आप भूल गए हैं, उनसे मिलें और पुन: मधुर संबंध बनाएं।

उपाय- विष्णुजी को शहद और शक्कर चढ़ाएं।

effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects

कर्क- इस राशि से गुरु चतुर्थ भाव में है, इस कारण अभी तक कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था, लेकिन अब गुरु के वक्री होने से इस राशि को फायदा होने की संभावनाएं बन रही हैं। लाभदायक योग बनेंगे और पुराने नुकसान की भरपाई करने सफल होंगे।

उपाय- गुरुवार को चने का दान करें और भगवान विष्णु को हल्दी चढ़ाएं।

 

सिंह- आपकी राशि के लिए गुरु तृतीय है और ये अनुकूल है। वक्री होने के बाद भी गुरु के कारण कोई परेशानी नहीं होगी। परेशानियों से राहत मिलेगी। नए काम मिलेंगे। नई जगहों पर जाने का मौका मिलेगा और रिश्तेदारों से मुलाकात होने की संभावनाएं हैं।

उपाय- हर गुरुवार केले के पौधे की पूजा करें।

 

कन्या- कन्या राशि के लिए द्वितीय गुरु रहेगा। गुरु के कारण शुभ समय आने वाला है। अविवाहित लोगों को विवाह प्रस्ताव मिलेंगे। अटके धन की प्राप्ति होगी। नए कारोबार में भी रूचि बढ़ सकती है। साझेदारों और मित्रों का सहयोग मिलेगा। बिछड़े दोस्त फिर से मिल सकते हैं।

उपाय- विष्णु को केलों का भोग लगाएं।

effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects

तुला- आपकी राशि के लिए गुरु वक्री है। हालांकि इससे कोई नुकसान होने की संभावनाएं नहीं हैं। धर्म-कर्म में व्यय होने की संभावनाएं रहेंगी। कार्य में मन लगेगा और सफलाएं मिलने के योग हैं। नया मकान खरीदने का मन बन सकता है।

उपाय- विष्णु भगवान को हल्दी मिश्रित जल अर्पण करें।

 

वृश्चिक- इस राशि से गुरु द्वादश है जो कि इनके लिए नुकसानदायक हो रहा था,  लेकिन अब गुरु के वक्री होने से पुराने नुकसान की भरपाई कराएगा। साथ ही, जो असफलताएं मिली थीं, उन कामों में पुन: सफलता मिलने के योग हैं। आत्म विश्वास बढ़ेगा। नई योजनाएं सफल होंगी और धनलाभ हो सकता है।

उपाय- भगवान विष्णु के साथ ही महालक्ष्मी की भी पूजा करें।

 

धनु- आपकी राशि से वक्री गुरु एकादश है जो कि आपको लाभ देने की स्थिति में है। मार्गी और वक्री गुरु, दोनों ही स्थितियों में आपके लिए फायदेमंद रहेगा। कारोबार की नई योजनाएं बनेंगी और धार्मिक कार्यक्रमों में शामिल होने का मौका मिलेगा।

उपाय- भगवान विष्णु को पीले वस्त्र चढ़ाएं।

 
effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects

मकर- आपकी राशि के लिए गुरु दशम है और वक्री होने की वजह से आपके लिए अनुकूल बना रहेगा। शनि की साढ़ेसाती का असर है और यह भी फायदा देने वाली स्थिति है। योजनाएं सफल होने के योग हैं। नौकरी में नए पद की प्राप्ति संभव है।

उपाय- विष्णुजी को पीले फूल चढ़ाएं।

 

कुंभ- गुरु की पंचम दृष्टि राशि पर बनी हुई है, गुरु के वक्री होने से उसका प्रभाव कम हो सकता है। काम की अधिकता का असर दिख सकता है, जो कि आपके स्वास्थ्य को बिगाड़ सकता है। कारोबार में सावधानी रखें और वाहन प्रयोग में भी सावधान रहें।

उपाय- गुरुवार को विष्णुजी को सवा किलो घी चढ़ाएं।

 

मीन- आपकी राशि से आठवां गुरु वक्री होने से राहत महसूस होगी। गुरु का प्रभाव कम होने से परेशानियों का अंत होगा और कामकाज में तेजी आएगी। न्यायालयीन और विवादित मामलों में विजय मिलेगी। आय के स्रोत बढ़ेंगे।

उपाय- विष्णु भगवान की पूजा करें और फल चढ़ाएं।

X
effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects
effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects
effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects
effects of vakri guru in kundli, astrological effects of jupiter planet, planets effects
Click to listen..