Rashi Aur Nidaan

--Advertisement--

जो लोग करते हैं ये 7 काम, महालक्ष्मी हमेशा रहती हैं उन पर मेहरबान

जिन लोगों को लक्ष्मी की कृपा नहीं मिल पाती है, वे धन की कमी का सामना करते हैं।

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 12:05 AM IST
goddess laxmi and upay, laxmi prapti ke upay, dhan prapti ke upay

जीवन में सुख-सुविधाएं पाने के लिए लक्ष्मी सहित सभी देवी-देवताओं की प्रसन्नता बहुत जरूरी है। शास्त्र कहते हैं न्याय और नीति लक्ष्मी के खिलौने हैं। वह जैसा चाहती हैं, वैसा ही नचाती हैं। जिन लोगों पर लक्ष्मी मेहरबान हो जाती हैं, उनके जीवन में सुख-समृद्धि हमेशा बनी रहती है। गरुड़ पुराण में लक्ष्मी को प्रसन्न करने के सात काम बताए गए हैं, जानिए ये काम कौन-कौन से हैं...

1. धैर्य धारण करना

किसी भी काम में स्थाई सफलता तभी मिलती है, जब अंतिम समय तक धैर्य का दामन थामे रहते हैं। जिस पल धैर्य छोड़कर जल्दबाजी की, उसी पल से असफल होने की संभावनाएं बढ़ने लगती हैं।

2. क्रोध न करना

क्रोध, व्यक्ति की सोचने-समझने की क्षमता को नुकसान पहुंचाता है। क्रोधी व्यक्ति के जीवन में और घर में शांति नहीं हो सकती है। जहां अशांति होती है, वहां दरिद्रता का वास होता है। लक्ष्मी कृपा चाहिए तो क्रोध को छोड़ देना चाहिए।

3. इंद्रियों को वश में रखना

पांच ज्ञान इंद्रियां (जो इंद्रियां हमें किसी बात का ज्ञान कराती हैं।) और पांच कर्म इंद्रियां (जिन इंद्रियों से हम काम करते हैं।) बताई गई हैं। इन दसों इंद्रियों को वश में रखना चाहिए। यदि इन पर हमने सही नियंत्रण रखा तो अलग-अलग समय पर अलग-अलग इंद्रियां हमें परेशानियों के लिए सही समाधान बता देती हैं।

4. पवित्रता

जो लोग मन और शरीर की पवित्रता बनाए रखते हैं, उन्हें लक्ष्मी की प्रसन्नता प्राप्त होती है। मन की पवित्रता अच्छे विचारों से होती है और शरीर की पवित्रता साफ-सफाई से रहने से होती है।

goddess laxmi and upay, laxmi prapti ke upay, dhan prapti ke upay

5. दया

गरीब और जरुरतमंद लोगों के लिए दया का भाव होना भी जरूरी है। समय-समय पर ऐसे लोगों की अपने सामर्थ्य के अनुसार मदद करते रहना चाहिए।

6. सरल और मीठे वचन

घर-परिवार हो या समाज, हमें सदैव ही मीठे वचनों यानी वाणी का उपयोग करना चाहिए। जाने-अनजाने कभी भी ऐसे शब्दों का उपयोग नहीं करें, जिनसे किसी के मन को ठेस पहुंचती है।

goddess laxmi and upay, laxmi prapti ke upay, dhan prapti ke upay

7. मित्रों से द्वेष न रखना

मित्रों और शुभचिंतकों से द्वेष का भाव नहीं रखना चाहिए। दूसरों से घृणा करने वाले व्यक्ति से महालक्ष्मी कभी भी प्रसन्न नहीं हो सकती हैं। सभी से प्रेम भाव रखें।

जो लोग इन सात साधनों का ध्यान रखते हैं, वे लक्ष्मी कृपा प्राप्त करते हैं और सदैव सुखी रहते हैं।

X
goddess laxmi and upay, laxmi prapti ke upay, dhan prapti ke upay
goddess laxmi and upay, laxmi prapti ke upay, dhan prapti ke upay
goddess laxmi and upay, laxmi prapti ke upay, dhan prapti ke upay
Click to listen..