Rashi Aur Nidaan

--Advertisement--

​हनुमान अष्टमीः 21 दिन के इस उपाय से दूर हो सकती है हर प्रॉब्लम

हनुमान अष्टमी के मौके पर हम आपको हनुमानजी का एक ऐसा खास उपाय बता रहे हैं, जिसे करने से आपकी हर प्रॉब्लम दूर हो सकती है।

Dainik Bhaskar

Dec 06, 2017, 05:00 PM IST
hanuman ashtami on 10 December, Sunday.

इस बार 10 दिसंबर, रविवार को हनुमान अष्टमी है। इस मौके पर हम आपको हनुमानजी से जुड़ा एक ऐसा खास उपाय बता रहे हैं, जिसे करने से आपकी हर प्रॉब्लम दूर हो सकती है। ये उपाय 21 दिनों का है। गीताप्रेस गोरखपुर द्वारा प्रकाशित 'हनुमान अंक' में इस उपाय की विधि बताई गई है। उपाय करते हुए रखें इन 4 बातों का ध्यान...

1. ये उपाय चतुर्थी, नवमी व चतुर्दशी तिथि को छोड़कर किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष के मंगलवार को कर सकते हैं।
2. परिवार में किसी की मृत्यु या जन्म होने पर 13 दिन के बाद ये उपाय शुरू करें। यदि उपाय के दौरान ऐसा कोई संयोग आ जाए तो किसी विद्वान ब्राह्मण के द्वारा इसे पूरा करवाना चाहिए, बीच में नहीं छोड़ना चाहिए।
3. उपाय के दौरान क्षौर कर्म (दाढ़ी बनवाना, नाखून काटना आदि) नहीं करना चाहिए।
4. ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए सात्विक (बिना प्याज व लहसुन का) भोजन ही करना चाहिए।

आगे की 3 स्लाइड्स में जानें इस उपाय के लिए किन चीजों की पड़ेगी जरूरत और प्रोसेस...

तस्वीरों का इस्तेमाल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

hanuman ashtami on 10 December, Sunday.

इस विधि से करें ये उपाय
- 250 ग्राम गुड़, थोड़े से भूने चने और गाय के शुद्ध घी लें। गुड़ के छोटे-छोटे 21 टुकड़े कर लें।
- अब साफ रूई लेकर इसकी 22 फूल बत्तियां बनाकर घी में भिगो दें। इन सभी को अलग-अलग साफ बर्तनों में लेकर किसी साफ स्थान पर रख दें। साथ ही माचिस और एक छोटा बर्तन व छन्नी आदि, जिसमें रोज ये सामान आसानी से ले जाया सके, भी रख दें।
- ये उपाय करने के लिए अब हनुमानजी के ऐसे मंदिर को चुनें, जहां ज्यादा भीड़ न आती हो। एकांत में हो।
- मंगलवार सुबह जल्दी उठ जाएं और नहाने के बाद माथे पर चंदन का तिलक लगाएं। फिर एक साफ बर्तन में गुड़ का एक टुकड़ा, 11 चने, एक घी की बत्ती और माचिस लेकर साफ कपड़े से इसे ढक लें।
- ध्यान रहे इस उपाय के लिए घर से लेकर मंदिर तक नंगे पैर ही जाना होगा। साथ ही रास्ते में या मंदिर में किसी से कोई बात न करें। और न ही पीछे पलटकर देखें।


आगे की स्लाइड पर जानें पूरी प्रोसेस-
 

hanuman ashtami on 10 December, Sunday.

- मंदिर पहुंचने के बाद हनुमानजी की मूर्ति के सामने सबसे पहले घी की बत्ती जलाएं। इसके बाद 11 चने और गुड़ का एक टुकड़ा चढ़ाएं। अब अपनी प्रॉब्लम को दूर करने के लिए मन ही मन श्रद्धा व विश्वास से श्री हनुमानचालीसा का पाठ करें।
- ये स्टेप पूरे होने के बाद वापस घर के लिए निकलें। ध्यान रहे मंदिर से घर जाते समय भी आपको ना ही पीछे पलटकर देखना है और ना किसी से बात करनी है।
- घर पहुंचकर पूजा का बचा सामान उचित स्थान पर रखकर 7 बार राम-राम बोलकर ही अपना मौन भंग करें।
- रात में सोने से पहले 11 बार श्रीहनुमानचालीसा का पाठ करें व अपनी मनोकामना सिद्धि के लिए प्रार्थना करें। ये उपाय लगातार 21 दिन तक करें।


आगे की स्लाइड पर जानें 22वें दिन क्या करना होगा...
 

hanuman ashtami on 10 December, Sunday.

22वें दिन चूरमा लेकर जाना होगा मंदिर
- 21 दिन की पूजा के बाद 22वें दिन पूजा खत्म होगी। इस दिन सुबह स्नान करके सवा किलो आटे से 5 बड़ी-बड़ी रोटी बनाएं। ध्यान रहे ये रोटियां गाय के गोबर के उपले पर ही पकाएं।
- अब इसमें आवश्यकतानुसार गाय का शुद्ध घी और गुड़ मिलाकर चूरमा बना लें। इसे थाली में रखकर बचे हुए सारे चने व 22वीं अंतिम बत्ती लेकर डेली की तरह ही चुपचाप मंदिर जाएं।
- फिर हनुमानजी की मूर्ति के सामने बत्ती जलाकर चने एवं चूरमे का भोग लगाएं। एक छोटे से बर्तन में थोड़ा सा चूरमा लेकर हनुमानजी के सामने रख दें। बाकी अपने साथ ले आएं।
- घर पहुंचने के बाद ही मौन भंग करें। जो भी यह प्रयोग करे वह उस दिन दोनों समय सिर्फ उसी चूरमे का भोजन करे। बचे चूरमे को प्रसाद के रूप में बांट दें।

ये उपाय बिना किसी गलती के विधिपूर्वक करने से श्रीहनुमानजी की कृपा से साधक की हर प्रॉब्लम दूर हो सकती है।
 

X
hanuman ashtami on 10 December, Sunday.
hanuman ashtami on 10 December, Sunday.
hanuman ashtami on 10 December, Sunday.
hanuman ashtami on 10 December, Sunday.
Click to listen..