Rashi Aur Nidaan

--Advertisement--

साल में एक-दो बार जरूर करें इन 4 चीजों का ये उपाय, हमेशा मिलेंगे शुभ फल

दान करने से कुंडली के सभी दोष दूर हो सकते हैं।

Dainik Bhaskar

Jan 23, 2018, 05:00 PM IST
importance of charity, donation and benefits, how to get success in hindi

दान से अक्षय पुण्य मिलता है और साथ ही जाने-अनजाने में किए गए पाप कर्मों के फल भी नष्ट हो जाते हैं। शास्त्रों में दान का विशेष महत्व बताया गया है। इस पुण्य कर्म में समाज में समानता का भाव बना रहता है और जरुरतमंद व्यक्ति को भी जीवन के लिए उपयोगी चीजें प्राप्त हो पाती है। यहां जानिए दान से जुड़ी ऐसी बातें, जिनका ध्यान रखने पर विशेष फल प्राप्त होते हैं...

1. गरुड़ पुराण के अनुसार अनाज, पानी, कपड़े, पलंग और आसन, इन 4 वस्तुओं का दान सालभर में एक-दो बार जरूर करना चाहिए। इससे लंबे समय तक शुभ फल मिलते हैं। पानी का दान करने के लिए गर्मी में प्याऊ लगवा सकते हैं। अगर आप चाहें तो पानी का मटका भी दान कर सकते हैं।

2. जो व्यक्ति पत्नी, पुत्र एवं परिवार को दुःखी करते हुए दान देता है, वह दान पुण्य प्रदान नहीं करता है। दान सभी की प्रसन्नता के साथ दिया जाना चाहिए।

3. जरूरतमंद के घर जाकर किया हुआ दान सबसे अच्छा माना जाता है। जरूरतमंद को घर बुलाकर दिया हुआ दान मध्यम फल देने वाला होता है।

4. यदि कोई व्यक्ति गायों, ब्राह्मणों और रोगियों को दान कर रहा है तो उसे दान देने से रोकना नहीं चाहिए। ऐसा करने वाला व्यक्ति पाप का भागी होता है।

5. तिल, कुश, जल और चावल, इन चीजों को हाथ में लेकर दान देना चाहिए। अन्यथा वह दान दैत्यों को प्राप्त हो जाता है।

6. दान देने वाले का मुख पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए और दान लेने वाले का मुख उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए। ऐसा करने से दान देने वाले की आयु बढ़ती है और दान लेने वाले की भी आयु कम नहीं होती है।

importance of charity, donation and benefits, how to get success in hindi

9. गाय, घर, वस्त्र, शय्या का दान एक ही व्यक्ति को करना चाहिए। इनमें से कोई भी एक चीज एक से ज्यादा लोगों दान नहीं करनी चाहिए।

10. गोदान श्रेष्ठ माना गया है। यदि आप गोदान नहीं कर सकते हैं तो किसी रोगी की सेवा करना, देवताओं का पूजन, ब्राह्मण और ज्ञानी लोगों के पैर धोना, ये तीनों कर्म भी गोदान के समान पुण्य देने वाले कर्म हैं।

importance of charity, donation and benefits, how to get success in hindi

7. पितर देवता को तिल के साथ तथा देवताओं को चावल के साथ दान देना चाहिए।

8. मनुष्य को अपने द्वारा न्यायपूर्वक अर्जित किए हुए धन का दसवां भाग किसी शुभ कर्म में लगाना चाहिए। शुभ कर्म जैसे गौशाला में दान करना, किसी जरुरतमंद व्यक्ति को खाना खिलाना, गरीब बच्चों की शिक्षा का प्रबंध करना आदि।

X
importance of charity, donation and benefits, how to get success in hindi
importance of charity, donation and benefits, how to get success in hindi
importance of charity, donation and benefits, how to get success in hindi
Click to listen..