--Advertisement--

क्या आप जानते हैं? कितने रुद्राक्ष की माला पहनने से मिलता है धन लाभ

शिवपुराण के अनुसार रुद्राक्ष शिवजी का प्रतीक है और इसे धारण करने पर सभी समस्याओं से रक्षा होती है।

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 05:05 PM IST

शिवजी की पूजा में मंत्र जाप के लिए रुद्राक्ष की माला का सर्वाधिक महत्व है। मंत्रों के जप की संख्या इसी माला से ध्यान रखी जाती है। रुद्राक्ष गोल, चिकने, कांटेदार और एक छेद से दूसरी ओर छेद तक सीधी बारीक रेखा वाला उत्तम गिना जाता है। जिसमें अपने आप छेद बना हुआ होता है, वह श्रेष्ठ रहता है।

जानिए रुद्राक्ष की संख्या और उनसे मिलने वाले फल

- 15 दानों की रुद्राक्ष माला से शिव मंत्र जाप करने पर पूजन कर्म जल्दी सफल होते हैं।

- 25 दानों से बनी रुद्राक्ष की माला से मंत्र जाप करने पर मोक्ष की प्राप्ति होती है।

- 27 दानों वाली रुद्राक्ष की माला से मंत्र जाप करने पर अच्छी सेहत और ऊर्जा प्राप्त होती है।

- जिस माला में रुद्राक्ष के 30 दाने हों, उससे मंत्र जाप करने पर धन-संपत्ति व सुख की प्राप्ति होती है।

- 54 दानों की रुद्राक्ष की माला से मंत्र जाप करने पर मानसिक अशांति दूर होती है।

- 108 दानों की रुद्राक्ष की माला सर्वश्रेष्ठ मानी गई है, क्योंकि इस माला से मंत्र जाप करने पर जीवन की हर कामना सिद्ध हो सकती है।

कैसे हुई रुद्राक्ष की उत्पत्ति

एक समय जब भगवान शिवजी समाधि में थे। उस समय शिवजी की आंखों से जल की बूंदे पृथ्वी गिरीं। इन बूंदों से ही रुद्राक्ष के वृक्ष उत्पन्न हुए। इन वृक्षों पर जो फल लगे वे ही रुद्राक्ष कहलाते हैं।

शिवपुराण के अनुसार रुद्राक्ष पापों का नाश करने वाले, पुण्य बढ़ाने वाले, रोगों से बचाने वाले और सभी सुख प्रदान करने वाले माने गए हैं। रुद्राक्ष जितने छोटे होते हैं, उतने ही अधिक शुभ रहते हैं।