--Advertisement--

पीपल की पूजा के बाद जरूर करें ये 1 काम भी, दूर होने लगेगा बुरा समय

पीपल की पूजा करने पर घर में सुख-समृद्धि और शांति बनी रहती है।

Dainik Bhaskar

Jan 22, 2018, 05:00 PM IST
pipal ke puja, pipal ke upay, dhan prapti ke upay, pipal ki puja

भगवान की पूजा के साथ ही पीपल की पूजा करने से भी सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति हो सकती है। महाभारत में श्रीकृष्ण ने पीपल को उन्हीं का एक स्वरूप है। इसीलिए पीपल की पूजा से वैसा ही फल मिलता है जैसा श्रीकृष्ण की पूजा से मिलता है। श्रीकृष्ण भगवान विष्णु के अवतार हैं, इस कारण पीपल की पूजा से देवी लक्ष्मी की कृपा भी मिलती है। यहां जानिए पीपल पूजा की सामान्य विधि और कुछ उपाय...

ऐसे कर सकते हैं पीपल का पूजा

- पीपल की पूजा करने के लिए सूर्योदय के पहले उठें और दैनिक कार्यों के बाद सफेद कपड़े पहनें। इसके बाद किसी ऐसे स्थान पर जाएं, जहां पीपल हो। पीपल की जड़ में गाय का दूध, तिल और चंदन मिला हुआ पवित्र जल चढ़ाएं।

- जल चढ़ाने के बाद जनेऊ फूल व प्रसाद और अन्य पूजन सामग्री चढ़ाएं। धूप-बत्ती व दीप जलाएं। आसन पर बैठकर या खड़े होकर मंत्र जाप करें। अपने इष्ट देवी-देवताओं का स्मरण भी करना चाहिए।
मंत्र-
मूलतो ब्रह्मरूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे। अग्रत: शिवरूपाय वृक्षराजाय ते नम:।।
आयु: प्रजां धनं धान्यं सौभाग्यं सर्वसम्पदम्। देहि देव महावृक्ष त्वामहं शरणं गत:।।
इस मंत्र का जाप कम से कम 108 बार करना चाहिए। मंत्र जाप के लिए रुद्राक्ष की माला का उपयोग किया जा सकता है। जाप के बाद आरती करें। प्रसाद अन्य लोगों को बांटें और खुद भी ग्रहण करें। पीपल को चढ़ाए हुए जल में से थोड़ा सा जल घर लेकर आएं और घर में छिड़कें।
इस प्रकार पीपल की पूजा करने पर घर में सुख-समृद्धि और शांति बनी रहती है। धन संबंधी कामों की बाधाएं दूर हो सकती हैं।
pipal ke puja, pipal ke upay, dhan prapti ke upay, pipal ki puja

ये हैं पीपल के उपाय
1. मान्यता है कि पीपल का पौधा लगाने और उसकी देखभाल करने वाले व्यक्ति की कुंडली के सभी ग्रह दोष शांत हो जाते हैं। जैसे-जैसे पीपल बड़ा होगा, आपके घर-परिवार में सुख-समृद्धि बढ़ती जाएगी।

2. यदि कोई व्यक्ति किसी पीपल के नीचे शिवलिंग स्थापित करता है और नियमित रूप से उस शिवलिंग का पूजन करता है तो सभी समस्याएं समाप्त हो सकती हैं। इस उपाय से बुरा समय धीरे-धीरे दूर हो सकता है।

3. शनि दोष, शनि की साढ़ेसाती और ढय्या के बुरे प्रभावों को दूर करने के लिए प्रति शनिवार पीपल पर जल चढ़ाकर सात बार परिक्रमा करनी चाहिए।

4. शाम के समय पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक लगाना चाहिए।

5. पीपल के नीचे बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें, इस उपाय से हनुमानजी प्रसन्न होते हैं और कार्यों में आ रही बाधाएं दूर हो सकती हैं।

X
pipal ke puja, pipal ke upay, dhan prapti ke upay, pipal ki puja
pipal ke puja, pipal ke upay, dhan prapti ke upay, pipal ki puja
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..