Rashi Aur Nidaan

--Advertisement--

घर में बाथरूम और मंदिर की ये बात ध्यान रखें, वरना गरीबी कभी दूर नहीं होगी

शास्त्रों में बताई गई छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखने पर घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है।

Dainik Bhaskar

Jan 22, 2018, 05:00 PM IST
tips about temple in home and bathroom in home, dhan prapti ke upay

नियमित रूप से घर के मंदिर में पूजा करने पर शुभ फल मिलते हैं और वातावरण पवित्र रहता है, जिससे महालक्ष्मी सहित सभी दैवीय शक्तियां घर पर अपनी कृपा बरसाती हैं। यहां जानिए कुछ ऐसी बातें जो घर के मंदिर से जुड़ी हैं...

अगर मंदिर के आसपास बाथरूम हो तो

- गरुड़ पुराण के अनुसार घर के मंदिर के आसपास शौचालय नहीं होना चाहिए। इसकी वजह से घर में दोष बढ़ते हैं। इसीलिए घर बनवाते समय ऐसे स्थान पर पूजन कक्ष बनाएं, जहां आसपास शौचालय न हो।

- जिन लोगों के घर में मंदिर के पास बाथरूम है, उन्हें मंदिर की जगह बदल लेनी चाहिए। अगर ये संभव न हो तो बाथरूम का दरवाजा हमेशा बंद रखना चाहिए और उस पर पर्दा भी लगाना चाहिए। ध्यान रखें पर्दा थोड़े-थोड़े दिन में धोते रहना चाहिए। गंदा पर्दा न लगाएं। ऐसा करने से दोष कम हो सकते हैं।

- इस बात का ध्यान न रखने पर नकारात्मकता बढ़ती है और दरिद्रता घर की ओर आकर्षित होती है। देवी-देवता हमारे घर में वास नहीं करते हैं। इस कारण गरीबी का सामना करना पड़ सकता है।

मंदिर तक पहुंचनी चाहिए सूर्य की रोशनी और ताजी हवा

घर में मंदिर ऐसे स्थान पर बनाया जाना चाहिए, जहां दिनभर में कभी भी कुछ देर के लिए सूर्य की रोशनी अवश्य पहुंचती हो। जिन घरों में सूर्य की रोशनी और ताजी हवा आती रहती है, उन घरों के कई दोष शांत रहते हैं। सूर्य की रोशनी से वातावरण की नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है और सकारात्मक ऊर्जा में बढ़ोतरी होती है।

tips about temple in home and bathroom in home, dhan prapti ke upay

पूजा करते समय किस दिशा की ओर होना चाहिए अपना मुंह

घर में पूजा करने वाले व्यक्ति का मुंह पश्चिम दिशा की ओर होगा तो बहुत शुभ रहता है। इसके लिए पूजा स्थल का द्वार पूर्व की ओर होना चाहिए। यदि यह संभव न हो तो पूजा करते समय व्यक्ति का मुंह पूर्व या उत्तर दिशा में होगा तब भी श्रेष्ठ फल प्राप्त होते हैं।

tips about temple in home and bathroom in home, dhan prapti ke upay

पूजन कक्ष में नहीं ले जाना चाहिए ये चीजें

घर में जिस स्थान पर मंदिर है, वहां चमड़े से बनी चीजें, जूते-चप्पल नहीं ले जाना चाहिए। मंदिर में मृतकों और पूर्वजों के चित्र भी नहीं लगाना चाहिए। पूर्वजों के चित्र लगाने के लिए दक्षिण दिशा क्षेत्र रहती है। घर में दक्षिण दिशा की दीवार पर मृतकों के चित्र लगाए जा सकते हैं, लेकिन मंदिर में नहीं रखना चाहिए।

पूजन कक्ष में पूजा से संबंधित सामग्री ही रखना चाहिए। अन्य कोई वस्तु रखने से बचना चाहिए।

X
tips about temple in home and bathroom in home, dhan prapti ke upay
tips about temple in home and bathroom in home, dhan prapti ke upay
tips about temple in home and bathroom in home, dhan prapti ke upay
Click to listen..