विज्ञापन

31 मार्च को हनुमान जयंती- कम लोग ही जानते हैं पंचमुखी हनुमानजी का ये रहस्य / 31 मार्च को हनुमान जयंती- कम लोग ही जानते हैं पंचमुखी हनुमानजी का ये रहस्य

dainikbhaskar.com

Mar 28, 2018, 05:00 PM IST

कलियुग में हनुमानजी सबसे जल्दी प्रसन्न होने वाले देवता माने गए हैं।

hanuman jayanti 2018, hanumanji ke upay
  • comment

यूटिलिटी डेस्क. शनिवार, 31 मार्च को हनुमान जयंती है। गीताप्रेस गोरखपुर द्वारा प्रकाशित श्री हनुमान अंक के अनुसार प्राचीन समय में चैत्र मास की पूर्णिमा तिथि पर हनुमानजी का जन्म हुआ था। इस तिथि पर हनुमानजी के लिए विशेष पूजा की जाती है, इनके मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी रहती है। बजरंग बली के अलग-अलग स्वरूप बताए गए हैं। इन स्वरूपों में पंचमुखी हनुमान भी शामिल है। इस स्वरूप की पूजा करने से किसी भी व्यक्ति की किस्मत चमक सकती है। यहां जानिए उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. दयानंद शास्त्री के अनुसार पंचमुखी हनुमान से जुड़ी खास बातें...

ये है पंचमुखी हनुमान का रहस्य

पं. शास्त्री के अनुसार पंचमुखी हनुमान कैसे प्रकट हुए, इस संबंध में एक कथा प्रचलित है। इस कथा के अनुसार जब श्रीराम और रावण के बीच युद्ध चल रहा था, तब रावण ने अपनी सेना का बल बढ़ाने के लिए मायावी भाई अहिरावन को बुलाया। अहिरावन मां भवानी का परम भक्त था और तंत्र-मंत्र का का ज्ञाता था। उसने अपनी माया से श्रीराम की सेना को निद्रा में डाल दिया। इसके बाद वह श्रीराम के साथ ही लक्ष्मण का अपरहण करके पाताल लोक ले गया।

जब अहिरावन की माया का असर खत्म हुआ तब विभीषण ये समझ गया कि ये काम अहिरावन का है। विभीषण ने हनुमानजी को श्रीराम और लक्ष्मण की सहायता के लिए पाताल लोक भेज दिया। पाताल लोक पहुंचकर हनुमानजी ने देखा कि अहिरावन ने मां भवानी को प्रसन्न करने के लिए पांच दिशाओं में पांच दीपक जला रखे थे। इन दीपकों के प्रभाव से अहिरावन को हरा पाना मुश्किल था। तब हनुमानजी ने इन पांचों को दीपकों को एक साथ बुझाने के लिए पंचमुखी रूप धारण किया।

पंचमुखी हनुमान ने पांचों दीपक एक साथ बुझा दिए, जिससे अहिरावन का बल कम हुआ और उसका वध हो गया। तभी से हनुमानजी के पंचमुखी स्वरूप की भी पूजा की जाने लगी।

ऐसा है पंचमुखी स्वरूप

हनुमानजी पंचमुखी स्वरूप में उत्तर दिशा में वराह मुख, दक्षिण में नरसिंह मुख, पश्चिम में गरुड़ मुख, आकाश की तरफ हयग्रीव मुख और पूर्व दिशा में हनुमान मुख है।

पंचमुखी हनुमान की पूजा से मिलते हैं ये लाभ

- नरसिम्ह मुख की पूजा करने से शत्रुओं पर विजय मिलती है।

- गरुड़ मुख की पूजा करने से सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती है।

- सभी प्रकार की सुख-समृद्धि पाने के लिए वराह मुख की पूजा करनी चाहिए।

- जो लोग हयग्रीव मुख की पूजा करते हैं, उन्हें ज्ञान की प्राप्ति होती है।

- हनुमान मुख की पूजा करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं।

ये भी पढ़ें...

हनुमान जयंती पर गलती से भी न करें ये 3 काम, वरना शनि और हनुमानजी हो जाएंगे नाराज

​हनुमान जयंती पर 30 साल बाद शनि का दुर्लभ योग- इन दो राशियों के लिए रहेगा अशुभ, जानें 12 राशियों पर असर

भूलकर भी घर में न रखें हनुमानजी की ऐसी 2 फोटो, वरना हो सकता है कुछ अशुभ

दुर्भाग्य दूर कर सकते हैं हनुमानजी के ये 10 रामबाण उपाय, 31 मार्च को करें इनमें से कोई एक

X
hanuman jayanti 2018, hanumanji ke upay
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन