• Jyotish
  • Vastu
  • Home Bathroom Vastu Direction, Wash Room Vastu,Toilet Vaastu
--Advertisement--

8 बातें: घर की किस दिशा में बाथरूम होने पर बढ़ सकता है दुर्भाग्य, कहां होता है शुभ

इन 8 Points से समझें घर में कहां बनवा सकते हैं बाथरूम, कहां न बनाएं

Danik Bhaskar | Feb 20, 2018, 05:00 PM IST

घर या ऑफिस में एक-दो जगहों को छोड़कर जिस भी जगह टॉयलेट बनाएं, ये नेगेटिविटी लाता है। शायद यही एक वजह है, जिसकी वजह से पुराने समय में घर के बाहर टॉयलेट बनाए जाते थे। इन दिनों ज्यादातर घरों में रूम के साथ ही टॉयलेट बनाए जाते हैं। ऐसे में बाथरूम से जुड़े ये 8 प्वाइंट्स आपको नेगेटिविटी और नुकसान से बचा सकते हैं।


1. नॉर्थ :

ये करियर का जोन है। अगर इस डायरेक्शन में टॉयलेट होगा तो घर के सदस्यों को करियर संबंधी परेशानियां हो सकती हैं। यह करियर और इनकम ग्रोथ में बाधा डाल सकता है।


2. साउथ :


इस दिशा में टॉयलेट बनाने से तरक्की रुक सकती है। ऐसे में अगर आप मेहनत भी कर रहे होंगे तो भी आपके करियर की ग्रोथ नहीं होगी और आपके काम की तारीफ नहीं होगी।


3. ईस्ट :

इस दिशा में टॉयलेट बनाने से घर-परिवार के सम्मान और संपन्नता में बाधा आ सकती है। इससे हेल्थ भी खराब हो सकती है।


4. नॉर्थ-ईस्ट :

इस दिशा में भूलकर भी टॉयलेट नहीं बनवाना चाहिए। इससे हेल्थ पर भी खराब असर पड़ सकता है और ब्रेन संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। इससे आप बिना वजह स्ट्रेस में रहेंगे और शांतिपूर्ण माहौल नहीं मिलेगा।



5. साउथ-वेस्ट :

इस दिशा में टॉयलेट बनाने से फैमिली मेंबर्स के बीच अनबन बनी रहती है और रिलेशनशिप भी खराब हो सकते हैं। इससे घर के निवासियों की लाइफ में स्थिरता भी नहीं आती।


6. साउथ-ईस्ट :

साउथ-ईस्ट जोन में टॉयलेट बनाना भी नुकसानदायक हो सकता है। ऐसा करना घर से बच्चों के लिए अच्छा नहीं होता, साथ ही उनकी पढ़ाई पर भी नेगेटिव असर ड़ाल सकता है।



वास्तु शास्त्र के अनुसारटॉयलेट बनाने के लिए ये जोन माने जाते हैं  अच्छे-

 


1. साउथ-वेस्ट की साउथ साइड-

 

यह डिस्पोजल जोन है। इस जोन में टॉयलेट बनाना ठीक होता है। ऐसे करने से घर के लोगों को बेकार की चीजों से मुक्ति मिल सकती है।

 


2. नॉर्थ-वेस्ट की नॉर्थ और वेस्ट दोनों ही साइड-

 

नॉर्थ-वेस्ट की दोनों की साइड्स टॉयलेट बनवाने के लिए अच्छी मानी जाती है। यहां बाथरूम बनवाना घर में किसी तरह की नेगेटिविटी या नुकसान का कारण नहीं बनता।