• self help tips in hindi
विज्ञापन

सफल होना चाहते हैं तो हमेशा ध्यान रखें हनुमानजी से जुड़ी ये बातें

Dainik Bhaskar

Dec 27, 2016, 12:52 PM IST

जिन बातों से जीवन बनता है उनमें संवेदनशीलता का बड़ा योगदान है।

self help tips in hindi
  • comment
जिन बातों से जीवन बनता है उनमें संवेदनशीलता का बड़ा योगदान है। इसकी सीधी परिभाषा है अपनापन, प्रेम, करुणा। भगवान जब मनुष्य को जन्म देता है तो ये सब लबालब भरकर देता है। बढ़ती उम्र के साथ शिक्षा, अनुभव, पद-प्रतिष्ठा, पहचान धीरे-धीरे संवेदनशीलता को समाप्त करने लगते हैं। फिर आज के दौर में तो यह कमजोरी मानी जाती है। संवेदनशीलता बचाकर सफलता प्राप्त करना और संवेदनशीलता को समाप्त कर सफल होने के उदाहरण हैं श्रीराम और रावण। इसी स्तंभ में हर मंगलवार को हमने किष्किंधा कांड के हनुमानजी और राम को पढ़ा, उससे पहले सुंदर कांड में हनुमानजी के चरित्र को जाना था।
अब लंकाकांड में हनुमानजी की भूमिका को क्रमश: पढ़ते चलेंगे। वैसे तो रामचरित मानस हिंदुओं का प्रमुख ग्रंथ है लेकिन, इतना लोकप्रिय हुआ कि सारे धर्मों से मुक्त होकर जीवन की आचार संहिता बन गया। लंका कांड में श्रीराम और रावण का युद्ध प्रमुख है। राम-रावण के बाहरी युद्ध की तरह एक युद्ध हमारे भीतर भी चल रहा है दुर्गुण और सदगुणों का। आगे लंकाकांड में इसी पर चर्चा करेंगे कि हमें इस युद्ध में सदगुणों को जिताना है। सफल होना है और शांत भी। सफल रावण भी था, सफल राम भी थे।
रावण की सारी सफलता अशांति के साथ थी और राम कुछ नहीं होने के बाद भी सफल और शांत हुए। रावण जीवन में जो भी संवेदनशील था उसे खत्म कर चुका था। उसकी संपत्ति उसके लिए ज्वालामुखी बन गई थी। वह सत्ता प्राप्त कर सफलता के शिखर पर था और राम सत्ता छोड़ने के बाद शिखर पर थे। इन दोनों के बीच हनुमानजी की प्रमुख भूमिका थी। अब इसी को जीवन से जोड़ते चलेंगे। हमें हर हाल में अपने ही भीतर के रावण यानी गलत को पराजित कर सही के साथ जीवन बिताना है।
- पं. विजयशंकर मेहता
humarehanuman@gmail.com

X
self help tips in hindi
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन