• 2 Village Protected By Lord Shani
विज्ञापन

शनिदेव खुद करते हैं इन 2 गांव की सुरक्षा, एक भी घर-दुकान में नहीं है दरवाजा

यूटीलिटी डेस्क

Jan 03, 2018, 05:00 PM IST

2 गांव: जहां घर हो या दुकान नहीं लगते ताले, खुद शनिदेव करते हैं इनकी रक्षा

शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र) शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र)
  • comment

एक ओर जहां चोरी और लूट जैसी घटनाओं की बढ़ते लोग अपने घरों में हाई सिक्योरिटी सिस्टम लगवा रहे हैं, वहीं देश में दो ऐसे गांव है जहां घरों में दरवाजे नहीं हैं। यहां तक लोग अपने गहने, पैसों आदि किमती सामानों को भी तालों में बंद नहीं करते।

इन गावों में आखिर ऐसा क्यों किया जाता है इसका संबंध स्वयं शनिदेव से जुड़ा है। यहां के लोगों का मानना है कि उनके गांव की सुरक्षा स्वयंल शनिदेव करते हैं। मान्यता है कि यहां शनिदेव के डर से कोई चोरी नहीं करता, क्योंकि ऐसा करने वाले को भगवान शनिदेव दण्ड देते हैं।

जानिए कौन-से हैं वे 2 गांव जिनकी रक्षा स्वयं शनिदेव करते हैं-

1. शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र)

भगवान शनि के सबसे खास मंदिरों में से एक है महाराष्ट्र के शिगंणापुर नामक गांव का शनि मंदिर। यह मंदिर महाराष्ट्र के अहमदनगर से लगभग 35 कि.मी. की दूरी पर है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि यहां पर शनि देवी की प्रतिमा खुले आसमान के नीचे है। कई लोगों ने यहां पर मंदिर और छत बनाने की कोशिश की, लेकिन आज-तक कोई भी इस काम में सफल नहीं हो पाया। कहते हैं यहां की शनि प्रतिमा किसी ने बनाई नहीं बल्कि वह स्वयंभू है, इसलिए इसे बहुत ही खास माना जाता है।

यहां घरों में नहीं लगते तालें, शनिदेव करते हैं गांव की रक्षा-

शिगंणापुर यहां की चमत्कारी शनि प्रतिमा के साथ-साथ एक और बात के लिए भी प्रसिद्ध है। इस गांव में मान्यता प्रचलित है कि यहां स्वयं भगवान शनि निवास करते हैं और वे ही गांव की रक्षा भी करते हैं। इसी मान्यता के चलते यहां कोई भी अपने घर-दुकान पर ताला नहीं लगाता। इसके बावजूद भी यहां कभी चोरी नहीं होती।

आगे की स्लाइड्स पर जानें एक और ऐसे ही गांव के बारे में, जिसकी रक्षा शनिदेव करते हैं...

शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र) शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र)
  • comment

2. सताड़ा (गुजरात)

 

शनि शिगंणापुर की तरह ही गुजरात के एक गांव में भी यही मान्यता प्रचलित है। गुजरात में राजकोट के पास ही सताड़ा नाम का एक गांव है, जहां शविदेव का एक प्राचिन मंदिर स्थापित है। यहां शनि मंदिर को भैरवनाथ मंदिर और भगवान शनि को भैरव दादा के नाम से पूजा जाता है। शिगंणापुर ही तरह ही इस गांव में भी कई सालों से किसी के भी घर पर ताला नहीं लगाया गया क्योंकि यहां की रक्षा भी खुद शनि देव करते हैं और उन्हीं की कृपा से यहां कभी चोरी का डर नहीं रहता।

सताड़ा (गुजरात) का शनि मंदिर सताड़ा (गुजरात) का शनि मंदिर
  • comment

1800 के करीब हैं गांव की आबादी

 

यहां पर लगभग 300 पक्के मकान है और गांव की आबादी लगभग 1800 है। भैरवनाथ मंदिर गांव के निवासी क्षेत्र से लगभग 2 कि.मी. की दूरी पर स्थापित है। शनि का यह मंदिर पूरे गांव की आस्था और विश्वास का केन्द्र बना हुआ है।

 

X
शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र)शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र)
शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र)शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र)
सताड़ा (गुजरात) का शनि मंदिरसताड़ा (गुजरात) का शनि मंदिर
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन