Tirth Darshan

  • history and story of moti dungri ganesh temple of rajasthan
--Advertisement--

यहां हर बुधवार गणेशजी के सामने की जाती है नई गाड़ियों की पूजा, चमत्कारी है मूर्ति

गुजरात से लाई गई थी ये गणेश प्रतिमा, राजघराने से जुड़ा है इसका इतिहास

Dainik Bhaskar

Feb 25, 2018, 05:00 PM IST
मोती डूंगरी गणेश मंदिर मोती डूंगरी गणेश मंदिर

मोती डूंगरी गणेश मंदिर राजस्थान में जयपुर के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह भगवान गणेश को समर्पित एक खास मंदिर है। इस जगह के प्रति लोगों की खास आस्था तथा विश्वास है। यहां लगभग हमेशा ही भक्तों की भीड़ लगी रहती है और दूर-दूर से लोग भगवान मोती डूंगरी के दर्शन करने के लिए आते हैं। इस जगह को लेकर कई मान्यताएं प्रचलित है। एक मान्यता यहां की मूर्ति से जुड़ी है और दूसरी बुधवार से। चलिए आपको बताते हैं इस मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातें..

हजारों साल पुरानी है यहां की मूर्ति

यहां स्थापित भगवान गणेश की प्रतिमा जयपुर के राजा माधोसिंह प्रथम की रानी के पीहर मावली से लाई गई थी। यहां मान्यता है कि उस समय ही यह गणेश प्रतिमा पांच सौ साल पुरानी थी। इस प्रतिमा को मावली से जयपुर पल्लीवाल नाम के एक सेठ लेकर आए थे और उन्हीं की देखरेख में मोती डूंगरी मंदिर बनवाया गया था।

ऐसा है मंदिर का स्वरूप

यह गणेश मंदिर साधारण शैली से बना एक सुंदर मंदिर है। मंदिर के सामने कुछ सीढ़ियां और तीन दरवाजे हैं। मंदिर के पीछे के भाग में मंदिर के पुजारी रहते हैं। यहां दाहिनी सूंड़ वाले गणेशजी की विशाल प्रतिमा है, जिस पर सिंदूर का चोला चढ़ाकर भव्य श्रृंगार किया जाता है।

हर बुधवार को यहां होती है नए वाहनों की पूजा

मंदिर में हर बुधवार को नए वाहनों की पूजा कराने की मान्यता बहुत ही प्रसिद्ध है। इसी के चलते हर बुधवार यहां पर नई गाड़ियों की भीड़ लगती है। माना जाता है कि नए वाहन की पूजा मोती डूंगरी गणेश मंदिर में की जाए तो वाहन शुभ फल देता है। लोगों की इसी आस्था के लिए जयपुर का यह मंदिर प्रसिद्ध है।

कैसे पहुंचें

जयपुर राजस्थान के प्रमुख शहरों में से एक है। यहां पर एयरपोर्ट, रेल्वे और सड़क मार्ग के साधनों की अच्छी सुविधाएं हैं।

मंदिर के आस-पास घुमने की जगह

1. गोविंद देवजी मंदिर- यह भगवान राधा-कृष्ण का एक सुंदर मंदिर है।

2. हवा महल- हवा महल जयपुर के सबसे सुंदर महलों में से एक है।

3. गलता जी मंदिर व कुण्ड- यह मंदिर जयपुर से लगभग 10 कि.मी. की दूरी पर है। यहां पर भगवान सूर्य और बालाजी के मंदिर है।

4. लक्ष्मी-नारायण मंदिर- मोती डूंगरी गणेश मंदिर के पास ही भगवान नारायण और देवी लक्ष्मी का सुंदर मंदिर है।

आगे देखें मंदिर की कुछ तस्वीरें...

मोती डूंगरी गणेश मंदिर मोती डूंगरी गणेश मंदिर
मोती डूंगरी गणेश मंदिर मोती डूंगरी गणेश मंदिर
मोती डूंगरी गणेश मंदिर मोती डूंगरी गणेश मंदिर
X
मोती डूंगरी गणेश मंदिरमोती डूंगरी गणेश मंदिर
मोती डूंगरी गणेश मंदिरमोती डूंगरी गणेश मंदिर
मोती डूंगरी गणेश मंदिरमोती डूंगरी गणेश मंदिर
मोती डूंगरी गणेश मंदिरमोती डूंगरी गणेश मंदिर
Click to listen..