• story about kheer bhawani mata temple in kashmir
विज्ञापन

रावण से नाराज होकर श्रीलंका से श्रीनगर चली आई थी ये देवी, हनुमानजी ने की थी मदद

Dainik Bhaskar

Feb 16, 2018, 06:00 PM IST

यहां कोई भी मुसीबत आने से पहले काला पड़ जाता है कुंड का पानी

खीर भवानी मंदिर खीर भवानी मंदिर
  • comment

कश्‍मीर में श्रीनगर से 14 किलोमीटर दूर तुलमुल गांव में खीर भवानी के नाम से देवी का एक प्रसिद्ध मंदिर है। माता दुर्गा के भावानी रूप को समर्पित ये मंदिर पानी के कुंड के बीच में स्थित है। यह मंदिर को लेकर यहां मान्यता प्रचलित है कि यह देवी पहले रावण से राज्य लंका में विराजमान थी और बाद में हनुमानजी के द्वारा लंका से यहां पर लाई गई।

रावण से नाराज होकर श्रीलंका से श्रीनगर चली आई देवी-

इस मंदिर की स्‍थापना को लेकर एक कहानी सारे इलाके में प्रचलित है। कहते हैं कि रावण देवी का परम भक्‍त था और देवी खीर भवानी के मंदिर की स्‍थापना श्रीलंका में रावण ने ही की थी। लेकिन रावण की गलत आदतों से देवी रुष्‍ट हो गयीं और उन्‍होंने राम भक्‍त हनुमान को आदेश दिया कि वे उनकी मूर्ती को वहां से हटा कर कहीं और स्‍थापित करें। तब पवनपुत्र हनुमान ने उनको उठा कर कश्‍मीर के तुलमुल में स्‍थापित कर दिया। तब से देवी का ये मंदिर यहां पर स्‍थापित है।

मुसीबत आने से पहले देवी मां देती है संकेत-

यहां की एक और प्रचलित मान्यता यह भी है कि यहां पर कोई भी प्राकृतिक आपदा के आने से पहले मंदिर के कुण्ड का पानी काला पड़ जाता है और इस तरह से देवी मां अपने भक्तों को कोई भी मुसीबत आने से पहले ही संकट की सूचना दे देती है।

कैसे पड़ा यहां की देवी का नाम खीर भवानी-

देवी दुर्गा का मंदिर है और यहां पर देवी के कई नामों से पुकारा जाता है- जैसे महारज्ञा देवी़, राज्ञा देवी, रजनी देवी आदि। लेकिन यहां का सबसे प्रचलित नाम खीर भवानी है। यहां देवी को खीर भवानी कहने के पीछे एक अनोखा कारण है। यहां पर देवी मां को हर वसंत ऋतु में खीर चढ़ाई जाती है, इसलिए इनका नाम 'खीर भवानी' पड़ा।

खीर भवानी मंदिर में स्थापित देवी मां खीर भवानी मंदिर में स्थापित देवी मां
  • comment
X
खीर भवानी मंदिरखीर भवानी मंदिर
खीर भवानी मंदिर में स्थापित देवी मांखीर भवानी मंदिर में स्थापित देवी मां
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन