• Surprising Facts About Kashi Vishwanath Temple
विज्ञापन

भगवान शिव के त्रिशूल पर टिका है भारत का ये शहर, जानें ऐसी ही 7 बातें

Dainik Bhaskar

Jan 19, 2018, 05:00 PM IST

7 Facts: औरंगजेब से बचाने के लिए कुएं में छिपा दिया था काशी विश्वनाथ का शिवलिंग

Surprising Facts About Kashi Vishwanath Temple
  • comment

काशी को भगवान शिव की सबसे प्रिय नगरी कहा जाता है। इस बात का वर्णन कई पुराणों और ग्रंथों में भी किया गया हैं। मान्यतों के अनुसार, अगर किसी मनुष्य की मृत्यु काशी में होती है तो उसे निश्चित ही स्वर्ग की प्राप्ति होती है। काशी से जुड़ी ऐसे ही कई मान्यताएं और रहस्य हैं, जो इसे और भी खास बनाते हैं।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं काशी से जुड़ी ऐसी ही 7 अनोखी बातें-

1. भगवान शिव के त्रिशूल पर टिकी है काशी

कहा जाता है कि इस नगर को खुद भगवान शिव ने अपने तेज से प्रकट किया था। इसलिए, यह उन्हीं का स्वरूप माना जाता है। कई ग्रंथों में काशी को शिव की नगरी के नाम से भी पुकारा गया है। प्रलय से समय इस नगर की रक्षा करने के लिए भगवान शिव ने इसे अपने त्रिशूल पर टिका कर रखा है।

2. प्राचीन काशी मंदिर को नष्ट कर दिया था औरंगजेब ने

कहानियों के अनुसार, काशी का मंदिर जो की आज मौजूद है, वह वास्तविक मंदिर नहीं है। काशी के प्राचीन मंदिर का इतिहास कई साल पुराना है, जिसे औरंगजेब ने नष्ट कर दिया था। बाद में फिर से मंदिर का निर्माण किया गया, जिसकी पूजा-अर्चना आज की जाती है।

3. इन्दौर की रानी ने करवाया था मंदिर का पुनर्निर्माण

काशी विश्वनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण इन्दौर की रानी अहिल्या बाई होल्कर ने करवाया था। मान्यता है कि 18वीं शताब्दी के दौरान स्वयं भगवान शिव ने अहिल्या बाई के सपने में आकर इस जगह उनका मंदिर बनवाने को कहा था।

Surprising Facts About Kashi Vishwanath Temple
  • comment

4. छत्र के दर्शन करने से पूरी होती है हर मनोकामना

 

मंदिर के ऊपर एक सोने का बना छत्र लगा हुआ है। इस क्षत्र के चमत्कारी माना जाता है और इसे लेकर एक मान्यता प्रसिद्ध है। अगर कोई भी भक्त इस छत्र के दर्शन करने के बाद कोई भी प्रार्थना करता है तो उसकी वो मनोकामना जरूर पूरी होती है।

 

 

5. कुएं में छुपाया गया था शिवलिंग

 

6. महाराज रणजीत सिंह ने किया था सोने का दान

रानी अहिल्या बाई के मंदिर निर्माण करवाने के कुछ साल बाद महाराज रणजीत सिंह ने मंदिर में सोने का दान किया था। कहा जाता है कि महाराज रणजीत ने लगभग एक टन सोने का दान किया था, जिसका प्रयोग से मंदिर के छत्रों पर सोना चढाया गया था।

 

7. इसलिए काशी को कहा जाता है वाराणसी

यहां पर गंगा, वरुणा और अस्सी जैसी पावन नदियां बहती हैं। यहां पर वरुणा और अस्सी नदी के बहने के कारण ही इस शहर को वाराणसी भी कहा जाता है। यह दोनों नदियां यहां से बहती हुईं, आगे जाकर गंगा नदी में मिल जाती हैं।  

 

माना जाता है कि जब औरंगजेब इस मंदिर का विनाश करने के लिए आया था, तब मंदिर में मौजूद लोगों ने यहां के शिवलिंग की रक्षा करने के लिए उसे मंदिर के पास ही बने एस कुएं में छुपा दिया था। कहा जाता है कि वह कुआं आज भी मंदिर के आस-पास कहीं मौजूद है।

 

Surprising Facts About Kashi Vishwanath Temple
  • comment

6. महाराज रणजीत सिंह ने किया था सोने का दान

 

रानी अहिल्या बाई के मंदिर निर्माण करवाने के कुछ साल बाद महाराज रणजीत सिंह ने मंदिर में सोने का दान किया था। कहा जाता है कि महाराज रणजीत ने लगभग एक टन सोने का दान किया था, जिसका प्रयोग से मंदिर के छत्रों पर सोना चढाया गया था।

 

 

7. इसलिए काशी को कहा जाता है वाराणसी

 

यहां पर गंगा, वरुणा और अस्सी जैसी पावन नदियां बहती हैं। यहां पर वरुणा और अस्सी नदी के बहने के कारण ही इस शहर को वाराणसी भी कहा जाता है। यह दोनों नदियां यहां से बहती हुईं, आगे जाकर गंगा नदी में मिल जाती हैं।  

 

X
Surprising Facts About Kashi Vishwanath Temple
Surprising Facts About Kashi Vishwanath Temple
Surprising Facts About Kashi Vishwanath Temple
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन