• some unique facts about badrinath temple
विज्ञापन

यहीं लिखी थी वेदव्यास ने महाभारत, जानें बद्रीनाथ से जुड़ीं 7 अनोखी बातें

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2016, 05:00 AM IST

बद्रीनाथ धाम से कई धार्मिक और पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई हैं, जो इस जगह को और भी खास बनाती हैं।

बद्रीनाथ धाम बद्रीनाथ धाम
  • comment
हिंदू धर्म के प्रसिद्ध चार धामों में से एक बद्रीनाथ धाम भगवान विष्णु का निवास स्थल माना जाता है। यह भारत के उत्तरांचल राज्य में अलकनंदा नदी के तट पर नर-नारायण नामक दो पर्वतों के बीच बसा है। बद्रीनाथ धाम से कई धार्मिक और पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई हैं, जो इस जगह को और भी खास बनाती हैं।
जानें बद्रीनाथ धाम से जुड़ी 7 अनोखी बातें...

यहीं लिखी थीं वेदव्यास ने महाभारत

मान्यताओं है कि, बद्रीनाथ ही वो जगह है, जहां वेदव्यास ने हिंदू धर्म के सबसे बड़े और महत्वपूर्ण ग्रंथ यानी महाभारत की रचना की थी। बद्रीनाथ क्षेत्र में एक गुफा है, जिसे महाभारत की रचनास्थल माना जाता है।
आगे की स्लाइड्स पर बद्रीनाथ और भगवान विष्णु का संबंध...

तप्त कुंड तप्त कुंड
  • comment

भगवान विष्णु की तपस्या स्थली

पुराणों के अनुसार, बद्रीनाथ धाम की स्थापना सतयुग में हुई थी। इस जगह को भगवान विष्णु की तपोभूमि माना जाता है। भगवान विष्णु ने कई सालों तक इस जगह पर तपस्या की और वे ही यहां के पालनहार हैं।
 
 
आगे की स्लाइड्स पर जानें कैसे पड़ा इस जगह का नाम बद्रीनाथ...
अलकनंदा नदी अलकनंदा नदी
  • comment

कैसे पड़ा इस जगह का नाम बद्रीनाथ

कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने इस जगह पर कठोर तपस्या की, जब देवी लक्ष्मी ने बदरी यानी बेर का पेड़ बन कर सालों तक भगवान विष्णु को छाया दीं और उन्हें बर्फ आदि से बचाया। देवी लक्ष्मी के इसी सर्मपण से खुश होकर भगवान विष्णु ने इस जगह को बद्रीनाथ नाम से प्रसिद्ध होने का वरदान दिया।
 
 
आगे की स्लाइड्स पर जानें  सबसे पहले किसे मिली थी यहां की मूर्ति...
सजावट के साथ बद्रीनाथ मंदिर सजावट के साथ बद्रीनाथ मंदिर
  • comment

शकंराचार्य को मिली थीं यहां की मूर्ति

मान्यताओं के अनुसार, यहां स्थापित भगवान विष्णु की मूर्ति सबसे पहले आठवीं शताब्दी में आदि शंकराचार्य को यहां के एक कुंड में मिली थी। जिसे उन्होंने एक गुफा में स्थापित कर दिया था। बाद में राजाओं द्वारा वर्तमान मंदिर का निर्माण करवा कर मूर्ति को इस मंदिर में स्थापित किया गया।
 
 
आगे की स्लाइड्स पर जानें यहां की मूर्ति के बारे में...
तप्त कुंड तप्त कुंड
  • comment

ऐसा है यहां की विष्णु मूर्ति का स्वरूप

बद्रीनाथ धाम के गर्भगृह में भगवान विष्णु की चतुर्भुज मूर्ति स्थापित है, जो कि शालिग्राम शिला से बनी है। यहां की मूर्ति बहुत ही छोटी है, जिसे हीरों के जड़ा हुआ मुकुट पहनाया जाता है। यहां पर भगवान विष्णु के साथ भगवान कुबेर और उद्धव जी की भी मूर्तियां स्थापित हैं।
 
 
आगे की स्लाइड्स पर जानें यहां के गर्म पानी के कुंड के बारे में...
बर्फबारी के दौरान बद्रीनाथ धाम बर्फबारी के दौरान बद्रीनाथ धाम
  • comment

हर समय गर्म रहता है यहां के कुंड का पानी

अलकनंदा नदी के किनारे तप्त नामक एक कुंड है। इस कुंड का पानी हर समय गर्म ही रहता है, जो की किसी चमत्कार के कम नहीं। यह कुंड चमत्कारी होने के साथ-साथ बहुत पवित्र भी माना जाता है। इस कुंड में स्नान करने पर भक्त पापों से मुक्ति पाते हैं।  
 
 
आगे की स्लाइड्स पर जानें गंगा नदी और अलकनंदा नदी का संबंध...
मंदिर के गर्भगृह के अदंर का दृश्य मंदिर के गर्भगृह के अदंर का दृश्य
  • comment

यहां बहती है गंगा के बारह स्वरूपों में से एक अलकनंदा

कहा जाता है कि जब गंगा का धरती पर अवतरण हुआ, तब धरती गंगा का वेग सहने में असमर्थ थीं, इसलिए गंगा ने अपने आप को बारह भागों में बांट कर अलग-अलग जगहें बहने लगीं। अलकनंदा नदी गंगा के उन्हीं बारह भागों में से एक है। इसी के किनारे बद्रीनाथ धाम बसा हुआ है।
X
बद्रीनाथ धामबद्रीनाथ धाम
तप्त कुंडतप्त कुंड
अलकनंदा नदीअलकनंदा नदी
सजावट के साथ बद्रीनाथ मंदिरसजावट के साथ बद्रीनाथ मंदिर
तप्त कुंडतप्त कुंड
बर्फबारी के दौरान बद्रीनाथ धामबर्फबारी के दौरान बद्रीनाथ धाम
मंदिर के गर्भगृह के अदंर का दृश्यमंदिर के गर्भगृह के अदंर का दृश्य
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें