Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »OMG» We Are Digging Our Own Grave, Before & After Photos Showing Destruction Of Forests

बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!

युक्त राष्ट्र संघ द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार 2016 में अब तक का रिकॉर्ड (7.3 करोड़ एकड़) वन क्षेत्र नष्ट कर दिया गया।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 21, 2018, 03:17 PM IST

  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
    दुनिया के सबसे बड़े जंगल अमेजॉन के विनाश की तस्वीरें भी सामने आ रहे हैं।

    जितने इलाके में पूरा इंग्लैंड है, उससे ज्यादा जंगल हमने 2016 में काट दिए। इंग्लैंड का क्षेत्रफल 6 करोड़ एकड़ से कुछ ज्यादा है लेकिन यूनिवर्सिटी ऑफ मेरीलैंड के मुताबिक 2016 में हमने 7.5 करोड़ एकड़ जंगल साफ कर दिए। लालच की हद देखिए कि ये 2015 से 51 फीसदी ज्यादा है। #InternationalDayofForest आपके लिए ये जानना जरूरी है कि जंगल साफ होने से क्या नुकसान होगा..और कंक्रीट के जंगलों यानी शहरों में रहने वालों के लिए इन्हें बचाना क्यों जरूरी है। ऐसे ही जंगल कटे तो क्या हो सकता है?

    पेड़ ग्रीन हाउस गैसों को सोखते हैं। अगर पेड़ कम हुए तो ऑक्सीजन कम होगा औऱ ग्रीन हाउस गैस - जैसे कार्बन डायऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाएगी। ग्लोबल वार्मिंग के कारण ग्लेशियर पिघलेंगे, समुद्र का लेवल बढ़ेगा और कई इलाके डूब जाएंगे। समुद्र के किनारे बसे न्यूयार्क और मुंबई जैसे शहरों को खतरा पैदा हो जाएगा। वर्ल्ड बैंक के मुताबिक 2050 तक 14 करोड़ जलवायु परिवर्तन के कारण विस्थापित हो जाएंगे। ये आंकड़ा तो सिर्फ अफ्रीका, साउथ एशिया और लैटिन अमेरिका के विकासशील देशों का है। वर्ल्ड लेवल पर ये संख्या और बढ़ेगी।

    पेड़ दिन में तेज धूप को रोकते हैं और रात में गर्मी को बचाते हैं , लिहाजा जंगल खत्म होने से तापमान में भारी उतार चढ़ाव आ सकता है। इससे जलवायु में अचानक बदलाव आ सकता है।

    लाखों जीव जंतुओं का घर उजड़ जाएगा क्योंकि धऱती के 80 परसेंट जीवन जंगलों में ही रहते हैं।

    मौसम में मछी उथल-पुथल

    जंगलों के विनाश की वजह से ही आज हम मौसम की उथल-पुथल का शिकार हो रहे हैं। हमारे देश में जहां कम बारिश वाली जगहों पर पिछले दो सालों में अतिवृष्टि हुई तो वहीं दुनिया के कई देश भयानक ठंड और गर्मी की चपेट में आए। बात करें यूरोप की तो पिछले दिनों आए यूरोप बर्फीले तूफान ने यहां भारी तबाही मचाई। झील, नदियां और समुद्र के किनारे तक जम गए हैं। सड़कों पर बर्फ की चादर बिछी है। यूरोपीय देश आर्कटिक से भी ज्यादा ठंडे हो रहे हैं। 15 से ज्यादा देशों में पारा आर्कटिक (माइनस 20 डिग्री सेल्सियस) से नीचे चला गया है।

    शहर में रहने वाले क्यों पेड़ बचाएं

    -हम जो सांस लेते हैं उसे साफ रखने का काम पेड़ करते हैं। पेड़ कार्बन को सोखकर ऑक्सीजन छोड़ते हैं। लिहाजा एयर प्यूरीफायर खरीदने के बजाय अपने घर के आसपास पेड़ लगाएं।

    -हर बड़ा शहर आज पानी की कमी से जूझ रहा है। पेड़ पानी को खींचकर अपनी जड़ों में जमा करते हैं...तो पेड़ को बचाना और लगाना दोनों जरूरी है।

    -पेड़ नैचुरल एसी का काम करते हैं...जहां पेड़-पौधे हों वहां तापमान दो डिग्री तक कम होता है। तो अपने आसपास पेड़ लगाइए और गर्मी से मुक्ति पाइए

    -कई स्टडी में ये बात साबित हुई है कि पेड़ पौधों के बीच रहने से मानसिक और शारीरिक सेहत अच्छी रहती है। तो सेहतमंद रहने के लिए पेड़ बचाइए

    -शहरों में साउंड पॉलूशन बड़ी परेशानी है। अगर सड़क और पेड़ के बीच सड़क हों तो एक बैरियर का काम करते हैं...तो पेड़ लगाइए और बचाइए

    आगे की स्लाइड्स मेंं देखें, खूबसूरत जंगलों के विनाश की तस्वीरें...

  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
    हमारे देश के अरावली के जंगल के पहले और बाद की तस्वीर।
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
    अमेजॉन के जंगलों से हजारों पेड़ हर महीने काटे जाते हैं।
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
    यहां कई इलाके रेगिस्तान की तरह दिखने लगे हैं।
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
    इसका भयानक असर वन्य जीवों पर भी पड़ रहा है।
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
  • बचने का लास्ट चांस न सांस ले पाएंगे, न मिलेगा पीने का पानी!
    +18और स्लाइड देखें
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: We Are Digging Our Own Grave, Before & After Photos Showing Destruction Of Forests
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From OMG

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×