--Advertisement--

सेक्स डॉल्स के साथ चीन में हो रहा है ऐसा काम कि दुनिया भी है हैरान

चीनी कंपनी ने अपने देश की शेयरिंग इकॉनमी को एक कदम आगे ले जाते हुए सेक्स डॉल्स को किराए पर देना शुरू कर दिया है।

Danik Bhaskar | Feb 22, 2018, 04:23 PM IST

बीजिंग. चाइना की एक कंपनी TOUCH ने पिछले दिनों देश के लोगों का अकेलापन दूर करने के लिए एक आइडिया निकाला था। सेक्स टॉयज मेन्युफैक्चरर इस कंपनी ने 'शेयर्ड गर्लफ्रेंड सर्विस' लॉन्च की थी जिससे चीन के उन लाखों पुरुषों की जरुरतों को पूरा किया जा सके जिन्हें जेंडर असंतुलन की वजह से जीवनसाथी नहीं मिल रहा। हालांकि, लॉन्च के चंद दिनों बाद ही इसे चीन में बैन कर दिया गया।

कैसे काम करती थी ये सर्विस

कंपनी ने एप के थ्रू एक फीचर दिया था जिसमें सिर्फ मोबाइल से घर बैठे-बैठे ही डॉल्स को बुक किया जा सकता था। इस एप्लिकेशन में कस्टमर अपनी पसंद के हिसाब से डॉल की आउटफिट, हेयरस्टाइल और उसके साथ आने वाली ऐसेसिरिज में भी चेजेंस करवा सकते थे। ये डॉल्स 298 युआन यानि लगभग 3 हजार रुपए में मिल रही थी, लेकिन कंपनी के नियमों के अनुसार इसे बुक करते समय या उससे पहले 8 हजार युआन जमा करवाने पड़ते थे। ये राशि डॉल्स की सेफ्टी पर्पज से ली जाती थी जिसे बाद में रिफंड कर दिया जाता था। इस तरह ऑर्डर के बाद इन सेक्स डॉल्स की होम डिलिवरी होती थी।

क्या थी इन डाॅल्स की खासियत

कंपनी के अनुसार इन डॉल्स को छूने पर तरह-तरह की आवाजें निकलती थीं। जिससे ये सेक्स डॉल्स असली इंसान के साथ होने जैसा अहसास करवा सकें। ये चाइनीज, रशियन, कोरियन विमेन के अलग-अलग वर्जन में आती थीं।

ये कहना है कंपनी का


कंपनी का कहना है कि शेयर्ड गर्लफ्रेंड सर्विस चीन के उन लाखों पुरुषों की जरुरतों को पूरा कर सकती थी जिन्हें जेंडर असंतुलन की वजह से जीवनसाथी नहीं मिल रहा है। ये डॉल्स उन लोगों की भी साथी बन सकती थी जो काम या दूसरी वजहों से अपने जीवनसाथी से अलग रह रहे हैं।

41 हज़ार करोड़ की इंडस्ट्री

दुनिया भर में सप्लाई होने वाले सेक्स टॉयज का 80% चीन में ही बनता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, चीन की सेक्स टॉयज इंडस्ट्री में 10 लाख से ज्यादा लोगों को रोज़गार मिला हुआ है। वहीं, सेक्स टॉयज इंडस्ट्री का कारोबार इस देश में लगभग 41 हज़ार करोड़ रू. से ज्यादा का है।