--Advertisement--

मोहम्मद अली इस वजह से बने थे बॉक्सर, इस चीज से लगता था डर

Dainik Bhaskar

Nov 22, 2018, 06:01 PM IST

रिंग में सबके छक्के छुड़ाने वाले मोहम्मद अली को भी एक चीज से डर लगता था।

पानी में बॉक्सिंग की प्रैक्टिस करते हुए मोहम्मद अली पानी में बॉक्सिंग की प्रैक्टिस करते हुए मोहम्मद अली

हटके डेस्क. वो बॉक्सिंग रिंग में तितली की तरह उड़ता था। एक पंच में विरोधी को चित कर देता था। वो मोहम्मद अली था। जी हां, अमेरिका के महान मुक्केबाज मोहम्मद अली का जन्म 17 जनवरी 1942 को केंटुकी में हुआ था। बचपन में मां-पिता ने उनका नाम कैसियस क्ले रखा, लेकिन उनकी जिंदगी में ऐसा कुछ हुआ कि वो कैसियस से मोहम्मद अली बन गए। इससे भी दिलचस्प उनके बॉक्सर बनने की कहानी है।

मोहम्मद अली कैसे बने बॉक्सर
मोहम्मद अली को उनके पिता ने एक साइकिल गिफ्ट की। जिसे लेकर वो पूरे दिन घूमा करते थे। लेकिन एक दिन ऐसा हुआ कि उनकी साइकिल चोरी हो गई। 12 साल के अली ने पुलिस से कहा कि वो चोर को पकड़कर रहेंगे और खुद से उसे उसकी सजा देंगे। पुलिस ऑफिसर से उनके घरेलू संबंध थे। पुलिसवाले ने उनसे कहा कि पहले बॉक्सिंग करना शुरू करो तभी बदला ले सकोगे। तभी से उन्होंने बॉक्सिंग की प्रेक्टिस शुरू की। खुद उस पुलिस ऑफिसर ने एक किताब में लिखा कि मोहम्मद अली ने चोर को सजा देने के लिए बॉक्सिंग को अपना जूनून बना लिया।

आगे की स्लाइड में देखें, किस चीज से डरते थे मोहम्मद अली...

मोहम्मद अली और ब्रूस ली मोहम्मद अली और ब्रूस ली

किस चीज से डरते थे मोहम्मद अली
रिंग में विरोधी को चित कर देने वाले मोहम्मद अली का भी एक डर था। जिसका खुलासा 1960 में हुआ। जब रोम ओलिंपिक होने वाला था। अली को भी ओलिंपिक में शामिल होना था लेकिन उन्होंने जाने से इनकार कर दिया। उन्होंने बताया कि वो हवाई जहाज में उड़ने से डरते हैं। इसके बाद एक पैरासूट का इंतजाम किया गया। वो पैरासूट पहनकर फ्लाइट में बैठे। लेकिन रोम जाते ही उन्होंने तहलका मचा दिया। उन्होंने लाइट वेट कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीता। अमेरिका लौटने पर उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया।

 

आगे की स्लाइड में देखें, मोहम्मद अली ने क्यों कबूल किया इस्लाम... 

 
 
 
नेल्सन मंडेला के साथ मोहम्मद अली नेल्सन मंडेला के साथ मोहम्मद अली

कब बने मोहम्मद अली
मोहम्मद अली सिर्फ एक बॉक्सर ही नहीं थे बल्कि उनमें समाज की बुराईयों के खिलाफ लड़ाई का भी जूनून था। वो अमेरिकी समाज में नस्लभेदी मानसिकता को कुचल देना चाहते थे। यही वजह थी कि वो कैसियस क्ले से मोहम्मद अली बने। ऐसा उन्होंने तब तय किया जब एक रेस्टोरेंट में उन्हें टेबल देने से मना कर दिया गया। तब अली ने अपना गोल्ड मेडल फेंक दिया। उस घटना के बाद ही उन्होंने इस्लाम धर्म कबूल करने का मन बना लिया। कुछ साल बाद 1964 में उन्होंने सार्वजनिक रूप से इस्लाम अपना लिया। यहां उनका नाम मोहम्मद अली रखा गया। इसी नाम के साथ वो तीन बार हैवी वेट चैंपियन बने। उन्होंने इंपासिबल इज नथिंग जैसे कई यादगार कोट्स दिए।

 

अपनी बेटी के साथ मोहम्मद अली अपनी बेटी के साथ मोहम्मद अली

यूएस आर्मी में भर्ती होने से किया था इनकार:
मोहम्मद अली को यूएस आर्मी में सेना में भर्ती होने के लिए बुलाया, लेकिन उन्होंने मना कर दिया। मोहम्मद अली को ऑफर ठुकराने के बाद सजा मिली, लेकिन वो जुर्माना देकर बचे। मोहम्मद अली रिंग में तितली की तरह उड़ते थे। एक पंच में विरोधी को चित कर देते थे। रिंग में उतरने के पांच साल के अंदर ही वो अमेरिका में मशहूर हो गए। 17 साल की उम्र में ही गोल्डन ग्लब्स का खिताब अपने नाम कर लिया। 

रिंग में मोहम्मद अली रिंग में मोहम्मद अली
रिंग में मोहम्मद अली रिंग में मोहम्मद अली
रिंग में जाते हुए मोहम्मद अली रिंग में जाते हुए मोहम्मद अली
रिंग में प्रेयर करते हुए मोहम्मद अली रिंग में प्रेयर करते हुए मोहम्मद अली
X
पानी में बॉक्सिंग की प्रैक्टिस करते हुए मोहम्मद अलीपानी में बॉक्सिंग की प्रैक्टिस करते हुए मोहम्मद अली
मोहम्मद अली और ब्रूस लीमोहम्मद अली और ब्रूस ली
नेल्सन मंडेला के साथ मोहम्मद अलीनेल्सन मंडेला के साथ मोहम्मद अली
अपनी बेटी के साथ मोहम्मद अलीअपनी बेटी के साथ मोहम्मद अली
रिंग में मोहम्मद अलीरिंग में मोहम्मद अली
रिंग में मोहम्मद अलीरिंग में मोहम्मद अली
रिंग में जाते हुए मोहम्मद अलीरिंग में जाते हुए मोहम्मद अली
रिंग में प्रेयर करते हुए मोहम्मद अलीरिंग में प्रेयर करते हुए मोहम्मद अली
Astrology

Recommended

Click to listen..