Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »OMG» Congress MP Demands Change In National Anthem Of India

'जन-गण-मन' में बदलाव चाहते हैं कांग्रेस नेता बोरा, बोले इस शब्द से है अपत्ति

राष्ट्रगान में सिंध शब्द से कांग्रेस नेता को अपत्ति। हटवाकर दूसरी जगह का नाम लाने का दिया प्रस्ताव।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 17, 2018, 10:22 AM IST

  • 'जन-गण-मन' में बदलाव चाहते हैं कांग्रेस नेता बोरा, बोले इस शब्द से है अपत्ति
    +1और स्लाइड देखें

    कांग्रेस नेता रिपुर बोरा ने राष्ट्रगान जन-गण-मन से सिंध हटाने के लिए राज्यसभा में निजी प्रस्ताव दिया है। एएनआई के मुताबिक रिपुन बोरा ने कहा कि राष्ट्रगान में सिंध शब्द आता है लेकिन वो देश का हिस्सा नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि सिंध तो पाकिस्तान का हिस्सा है इसलिए इस शब्द को हटाकर नॉर्थ ईस्ट शब्द को लगाना चाहिए। बोरा चाहते हैं कि भारतीय संविधान की तरह अब राष्ट्रगान में भी संशोधन किया जाना चाहिए। तो नॉर्थ ईस्ट ही क्यों?

    - एएनआई से बातचीत करते हुए बोरा ने कहा कि नॉर्थ ईस्ट भारत का एक अहम हिस्सा है, इसलिए उसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। बोरा ने कहा कि राष्ट्रगान में जिस सिंध प्रांत का जिक्र किया गया है अब वह पाकिस्तान के दायरे में आता है और वह मुल्क हमेशा से भारत से दुश्मनी निभाते आया है, इसलिए इसे हमारे राष्ट्रगान से हटा देना चाहिए।

    लैटर में लिखी ये बातें
    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बोरा ने एक लैटर जारी किया है जिसमें लिखा है कि देश के पूर्व राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने 24 जनवरी 1950 में कुछ शब्द और एक म्यूजिक सदन में पेश किया था, जिसे राष्ट्रगान कहा गया, लेकिन वक्त के साथ हालात और नक्शा दोनों बदल गए हैं। इसलिए अब राष्ट्रगान में संशोधन करने की आवश्यकता है।

    तो क्या बदल जाएगा राष्ट्रगान
    - बोरा के इस प्रस्ताव के बाद सोशल मीडिया पर तरह-तरह की प्रतिक्रिया आ रही हैं। हर भारतीय राष्ट्रगान के हर एक शब्द को महसूस करता है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि हमारे देश की आन-बान-शान हमारे राष्ट्रगान में किया बदलाव किए जाने चाहिए?

  • 'जन-गण-मन' में बदलाव चाहते हैं कांग्रेस नेता बोरा, बोले इस शब्द से है अपत्ति
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From OMG

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×