Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »OMG» Shocking Stories Of Dead Bodies That Are Safe From Thousand Of Year

7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित

आपको जानकर हैरानी होगी कि एक ऐसी डेड बॉडी भी है जो करीब 2100 सालों से सुरक्षित है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 27, 2018, 05:39 PM IST

  • 7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित
    +6और स्लाइड देखें
    लेडी जिन सूई की ममी।

    हम जानते हैं कि मौत के बाद बेजान शरीर तेजी से खराब होने लगता है, लेकिन दुनियाभर में कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं जहां इंसानी शरीर कुछ सालों तक नहीं बल्कि हजारों साल तक वैसे ही रहे। आपको जानकर हैरानी होगी कि एक ऐसी डेड बॉडी भी है जो करीब 2100 सालों से सुरक्षित है। आज हम आपको बता रहे हैं ऐसी 7 डेड बॉडी के बारे में जिनके ऊपर सालों से कोई फर्क नहीं पड़ा। 2100 साल से सुरक्षित है इस रानी की बॉडी...

    लेडी जिन सूई की बॉडी को दुनिया की सबसे सुरक्षित ममी माना जाता है। लेडी जिन सूई हान राजवंश के एक राजनीतिज्ञ की पत्नी थीं। उनकी मौत 163 ईसा पूर्व हुई थी। 2000 साल बाद 1972 में जब लेडी जिन सूई के मकबरे को खोदा गया तो बॉडी बेहद सुरक्षित मिली और नसों में खून अवशेष भी मिले। साइंटिस्ट्स ने अनुमान लगाया कि उनकी मौत हार्ट की बीमारी से हुई होगी।

    आगे की स्लाइड्स में देखें, ऐसी ही 7 और डेड बॉडीज के बारे में...

    ये भी पढ़ें-OMG! इलाज करने के लिए मरीज के शरीर पर लगा देते हैं आग

  • 7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित
    +6और स्लाइड देखें
    इटली के बैसिलिका डि सैन फ्रेडिआनो में सेंट जीटा की बॉडी भी किसी आश्चर्य से कम नहीं है। वे एक कैथोलिक संत थीं और जरूरतमंदों की देखभाल करती थीं। लोगों ने दावा किया कि 1272 में जब सेंट जीटा की मौत हुई थी तो उनके घर के ऊपर एक तारा (स्टार) दिखाई दिया था। 1580 में उनकी बॉडी को खोदकर निकाला गया तो यह सुरक्षित हालत में मिली। जीटा को 1696 में संत घोषित किया गया था।
  • 7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित
    +6और स्लाइड देखें
    1846 में अंग्रेज ऑफिसर जॉन टोरिंगटन नॉर्थवेस्ट पैसेज की रिसर्च में लगे थे। इस दौरान उनकी मौत हो गई। उस समय उनकी उम्र 22 साल की थी। मौत के बाद उनकी इस बॉडी को कनाडा में आर्कटिक के बैरन टुंड्रा में दफना दिया गया था। 1984 में टोरिंगटन की कब्र को शिफ्ट करने के लिए खोदा गया तो सभी लोग हैरान रह गए। टोरिंगटन की डेड बॉडी तक ज्यों की त्यों रखी हुई थी।
  • 7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित
    +6और स्लाइड देखें
    दक्षिणी अमेरिका में एंडीज पर्वत की एक ऊंची जगह पर एक 500 साल पुरानी डेड बॉडी मिली थी। बताया जाता है कि यहां एक महिला की बलि दी गई थी जो बर्फ में जमे रहने से सुरक्षित रही।
  • 7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित
    +6और स्लाइड देखें
    डोरजहो इटिगिलोव एक बौद्ध भिक्षु थे। 1927 में ध्यान करते हुए ही उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए थे। उनकी डेड बॉडी को ठीक इसी पोजिशन में जमीन में दफना दिया गया था। 1955 में इटिगिलोव के अनुयायियों ने उनकी समाधि स्थल को खोला तो बॉडी ध्यान करने की पोजिशन में ज्यों की त्यों थी। यह देखकर लोग हैरान हो गए। इसके बाद इस बॉडी को इटिगेल खाम्बयन पैलेस टेम्पल में रखवा दिया गया।
  • 7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित
    +6और स्लाइड देखें
    सिसली की राजधानी पालेर्मो में दो साल की बच्ची रोसालिआ लोम्बार्डो की डेड बॉडी रखी हुई है। लोम्बार्डो की मौत 1920 में हुई थी। इसके बाद उसके पिता ने एक्सपर्ट्स की मदद से अपनी बेटी की बॉडी को सुरक्षित रखने का फैसला किया । एक्सपर्ट ने बॉडी को सुरक्षित रखने के लिए अल्कोहल, सैलीसाइलिक एसिड और ग्लिसरीन के मिश्रण से ऐसा केमिकल तैयार किया, जिससे यह बॉडी आज भी सुरक्षित रखी हुई है।
  • 7 रहस्यमय डेड बॉडी जो सालों से नहीं हुईं खराब, एक है 2100 साल से सुरक्षित
    +6और स्लाइड देखें
    सोवियत संघ के नेता व्लादीमीर लेनिन की मौत 1924 में हुई थी। सोवियत सरकार आने वाली पीढ़ी को प्रेरित करने के लिए उनकी बॉडी को सुरक्षित रखना चाहता थी। आज भी इसे सुरक्षित रखने के लिए बॉडी को केमिकल से नहलाया जाता है और इंजेक्शन लगाए जाते हैं। आज भी लेनिन की बॉडी ऐसे लगती है, जैसे वो जीवित हों।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From OMG

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×