Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »Mano Ya Na Mano» Now Dreams Can Be Recorded & Replayed, Scientist Tells Aisa Bhi Ho Sakta Hai

अब सपनों को रिकॉर्ड कर देख सकेंगे आप, जल्द ही ऐसा भी हो सकता है

जापानी साइंटिस्ट्स ऐसी मशीन बना चुके हैं जो आपके सपनों को रिकॉर्ड करेगी।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jan 06, 2018, 02:51 PM IST

    • सपनों की दुनिया बेहद रहस्यमयी है। अच्छे-बुरे सपनों को लेकर अक्सर कई तरह की मान्यताएं भी होती हैं। लेकिन अक्सर ऐसा होता है कि हम सपनों को भूल जाते हैं, पर अब ऐसा नहीं होगा। अब जल्दी ही ऐसी टेक्नोलॉजी आ सकती है, जहां सपनों को आप दोबारा देख सकेंगे। जापानी साइंटिस्ट्स ऐसी मशीन बना चुके हैं जो आपके सपनों को रिकॉर्ड करेगी। 10 साल से चल रहा काम...

      - Journal Science के मुताबिक जापानी साइंटिस्ट्स की टीम दुनिया के इस सबसे रोचक और रहस्यमयी विषय पर करीब 10 सालों से काम कर रही है। एक साइंस फिल्म में दिखाए गए सीन को साइंटिस्ट्स असलियत में बदलने में लगे हुए हैं। कुछ सालों पहले ऐसी मशीन बनाई गई थी जो दिमाग से मिले सिग्नल से बता सकती थी कि व्यक्ति सपने में क्या देख रहा है और इसपर लगातार काम जारी है

      ऐसे करती है काम
      - जब भी हम कोई सपने देखते हैं, तब हमारे दिमाग में न्यूरल पैटर्न तैयार होते हैं। ये सब न्यूरॉन्स की हरकत की वजह से होता है। जब दिमाग एक्टिव होता है तब न्यूरॉन्स मस्तिष्क को संदेश भेजने में मदद करते हैं। माना जाता है कि सपनों के दौरान भी कुछ न्यूरॉन्स हरकत में रहते हैं।

      - एक कम्प्यूटर एल्गोरिथम की मदद से दिमाग में बने इन न्यूरल पैटर्न को समझा जा सकता है। रिसर्च के मुताबिक जब भी हम कोई वस्तु या कोई दृश्य देखते हैं, तब दिमाग में एक खास तरह का पैर्टन बनता है। उदाहरण के तौर पर हम जितनी बार सपने में घर देखेंगे, दिमाग ठीक उसी तरह का न्यूरल पैर्टन बनेगा

      - इस पैर्टन से ये समझा जा सकता है कि व्यक्ति सपने में क्या देख रहा है। वहीं साइंटिस्ट्स द्वारा बनाई गई 'ड्रीम रीडर' मशीन इस एल्गोरिथम की मदद से ठीक वैसे ही दृश्य बनाकर रिकॉर्ड कर सकती है। हालांकि, इसकी सटीकता के लिए लगातार रिसर्च जारी है।

      आगे की स्लाइड्स में जानें सपनों से जुड़े इंटरेस्टिंग Facts...

    • अब सपनों को रिकॉर्ड कर देख सकेंगे आप, जल्द ही ऐसा भी हो सकता है
      +5और स्लाइड देखें
    • अब सपनों को रिकॉर्ड कर देख सकेंगे आप, जल्द ही ऐसा भी हो सकता है
      +5और स्लाइड देखें
      आपको बता दें कि सपनों को लेकर कई तरह की मान्यताएं हैं। हालांकि, इसका सच क्या है ये कोई नहीं जानता।
    • अब सपनों को रिकॉर्ड कर देख सकेंगे आप, जल्द ही ऐसा भी हो सकता है
      +5और स्लाइड देखें
      सपने वास्तव में नींद के दौरान दिमाग में होने वाली क्रियाओं का परिणाम है। एक मत के अनुसार सोते समय व्यक्ति की जो मानसिक स्थिति होती है, उसी से संबंधित सपने उसे दिखाई देते हैं। उदाहरण के लिए यदि व्यक्ति सोते समय अपने काम के लिए चिंतित है, तो उसे अपने ऑफिस या ऑफिस में काम करने वाले लाेगाें के सपने दिखाई देंगे।
    • अब सपनों को रिकॉर्ड कर देख सकेंगे आप, जल्द ही ऐसा भी हो सकता है
      +5और स्लाइड देखें
      वहीं दूसरे मत के अनुसार जो इच्छाएं हमारे जीवन में पूरी नहीं हो पाती हैं, उन्हें हम सपनों में पूरा हाेता देखते हैं। हमारे मन की दबी भावनाएं अक्सर सपनों में सामने आती हैं।
    • अब सपनों को रिकॉर्ड कर देख सकेंगे आप, जल्द ही ऐसा भी हो सकता है
      +5और स्लाइड देखें
      धार्मिक मान्यताअाें के अनुसार सपने हमारे जीवन में होने वाली घटनाओं के बारे में अच्छे या बुरे संकेत देते हैं। हालांकि, इन तीनों बातों को साइंटिस्ट्स सिद्ध नहीं कर पाए हैं कि अाखिर ऐसा हमारे दिमाग में क्या होता है जिससे सपने नजर आते हैं।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Now Dreams Can Be Recorded & Replayed, Scientist Tells Aisa Bhi Ho Sakta Hai
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From Mano Ya Na Mano

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×