Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »OMG» Good News- Struggle Life Of Cricketer Hardik Pandya

कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर

मैगी खाकर करते थे गुजारा

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 15, 2018, 07:50 PM IST

  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    साउथ अफ्रीका के खिलाफ पंड्या ने की थी कमाल की बॉलिंग

    स्पेशल डेस्क:कौन जाने, किस घड़ी वक्त का मिजाज बदले...और बंदा फर्श से अर्श पर पहुंच जाए...गुड न्यूज में बात एक ऐसे ही शख्स की, जिसको बचपन में कभी-कभी खाना भी मयस्सर नहीं हो पाता था, लेकिन वो अपनी मेहनत, जुनून और जज्बे से ऐसे मुकाम पर पहुंचा है...जहां देश न सिर्फ उसे पहचानता है, बल्कि उसकी मिसाल दी जाती है। मुफलिसी में बीता बचपन, अब हैं करोड़पति...

    फर्श से अर्श तक का सफर
    हम बात कर रहे हैं इंडियन क्रिकेटर हार्दिक पंड्या की, पंड्या मैच दर मैच और ज्यादा निखरते जा रहे हैं, वो कभी बैटिंग, कभी बॉलिंग तो कभी फील्डिंग से मैच पर छाप छोड़ जाते हैं. पंड्या के फैन्स की लंबी फेहरिस्त है। पंड्या आज की तारीख में करोड़पति क्रिकेटर बन चुके हैं। लेकिन उनका उनका बचपन बेहद मुश्किलों के बीच बीता।

    - हार्दिक पंड्या का जन्म 11 अक्टबर 1993 को गुजरात के सूरत में रहने वाले हिमांशु पंड्या के घर हुआ। उनके पिता कार फाइनेंस का छोटा-सा बिजनेस करते थे।
    - हार्दिक जब पांच साल के थे तो उनके पिता ने लगातार हो रहे घाटे को देखते हुए कार फाइनेंस का बिजनेस बंद कर दिया। इसके बाद वे परिवार समेत बड़ौदा शिफ्ट हो गए। वहां वे किराए के मकान में रहने लगे।
    - पंड्या के पिता हिमांशु की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। कई बार ऐसी भी नौबत आई कि हार्दिक और उनके बड़े भाई क्रुणाल को दिन में एक बार ही खाना मिल पाता था।
    - दरअसल, इनके पिता हिमांशु को कई बार हार्ट अटैक आ चुका था। खराब होती सेहत के कारण उनके लिए नौकरी कर पाना संभव नहीं था। इसलिए दोनों भाइयों का बचपन काफी दिक्कतों के बीच बीता।

    पिता रहे हैं क्रिकेट फैन
    - हार्दिक के पिता हिमांशु पंड्या भी क्रिकेट के बड़े फैन रहे हैं। वो हार्दिक और क्रुणाल को साथ में मैच दिखाते थे और उनके साथ क्रिकेट खेलते भी थे।
    - दोनों भाइयों का इंटरेस्ट क्रिकेट में देखते हुए उनके पिता ने 5 साल के हार्दिक और 7 साल के क्रुणाल का एडमिशन किरण मोरे की क्रिकेट एकेडमी में करा दिया। बेटों की खेल के प्रति लगन को देखकर ही उनके पिता बड़ौदा से मुंबई शिफ्ट हो गए थे।

    आज करोड़पति बन चुके हैं पंड्या
    - हार्दिक पंड्या आज करोड़पति बन चुके हैं। पंड्या टीम इंडिया में खेलने के अलावा IPL में मुंबई इंडियन्स टीम से भी खेलते हैं और अलग-अलग कंपनियों के साथ उनकी ब्रांड एंडोर्समेंट डील भी है।

  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    स्ट्रगल डेज में खाना नहीं मिलने पर मैगी खाते थे पंड्या
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    अपने पिता हिमांशु और मां के साथ हार्दिक पंड्या।
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    हार्दिक को बच्चों के साथ खेलना काफी पसंद है। हरभजन सिंह की बेटी हिनाया (बाएं से पहले) और शिखर धवन के बेटे जोरावर (बीच में) के साथ हार्दिक।
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    IPL ट्रॉफी के साथ पंड्या
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    अपने फैन्स के साथ हार्दिक पंड्या।
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    डांस करते हुए पंड्या
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    युवराज की शादी में पंड्या
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    अमिताभ बच्चन के साथ पंड्या बंधु
  • कभी नहीं मिलता था एक वक्त का खाना, मेहनत से इस मुकाम पर पहुंचा ये क्रिकेटर
    +9और स्लाइड देखें
    बड़े भाई क्रुणाल पंड्या के साथ हार्दिक
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From OMG

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×