Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »Do You Know» Genes Keep Working For A While After A Person Dies

अब मौत का सही समय पता करना हुआ आसान, हालिया शोध का दावा

मृत्यु होने पर मनुष्य का दिल भले ही धड़कना बंद कर दे लेकिन उसके जीन एक्टिव रहते हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Feb 14, 2018, 08:53 PM IST

अब मौत का सही समय पता करना हुआ आसान, हालिया शोध का दावा

मुंबई। मृत्यु होने पर मनुष्य का दिल भले ही धड़कना बंद कर दे लेकिन उसके जीन एक्टिव रहते हैं। मौत का सटीक समय जानने में इन जींस की भूमिका अहम होती है। हालिया रिसर्च के मुताबिक साइंटिस्ट डीएनए की एक्टिविटी के बेसिस पर महज 9 मिनट के अंदर ही किसी व्यक्ति की मौत का समय पता कर सकते हैं।24 घंटे तक होते हैं चेंजेस...


- मृत्यु होने के शुरुआती 24 घंटे तक ह्यूमन टिश्यूज में जेनेटिक चेंजेस होते रहते हैं। इससे उनकी एक्टिविटी का पता चलता है और इनकी मदद से ही मृत्यु का समय पता चलता है।

- यह जानकारी रिसर्चर्स ने नेचर कम्युनिकेशन की एक रिपोर्ट में दी है। रिसर्चर्स ने पाया है डेथ के बाद डीएनए की तरह आरएनए सरवाइव नहीं कर पाते हैं। आरएनए डीएनए के ही केमिकल कजिन हैं लेकिन ये डिसेबल होते हैं। दरअसल, ये वीक और अनस्टेबल मॉलेक्यूल होते हैं।

- एक्सपर्ट्स कहते हैं कि मॉलेक्यूलर प्रोसेस तभी तक कन्टीन्यू होती है जब उसके लिए जरूरी एंजाइम्स और केमिकल्स खत्म नहीं होते। रिसचर्स ने ब्रेन, स्किन और लंग्स समेत 36 तरह के ह्यूमन टिश्यूज का एनालिसिस किया था। ये टिश्यूज 500 से भी ज्यादा डोनर्स से कलेक्ट किए थे जिनकी डेथ हुए 29 घंटे से कम समय हुआ था।


- हर टिश्यू की जीन एक्टिविटी अलग-अलग होती है। बता दें कि ट्रेडिशनल एग्जामिनर्स बॉडी टेंपरेचर और फिजिकल साइन के आधार मृत्यु के समय का अंदाजा लगाया करते थे। लेकिन हालिया रिसर्च के बाद आने वाले समय में क्रिमिनल केस सुलझाने में काफी मदद मिल सकती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Do You Know

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×