• Home
  • Khabre Zara Hat Ke News
  • OMG
  • क्या है होता है पाेस्टमॉर्टम रूम में, Indian Worker Revealed Horrible Truths Inside Postmortem Room
--Advertisement--

पोस्टमार्टम रूम के अंदर की तस्वीरें, कर्मचारी ने बताया क्या होता है वहां?

दुनिया में जिसने भी जन्म लिया है, उसकी मौत निश्चित है। किसी की मौत प्राकृतिक कारणों से होती है।

Danik Bhaskar | Apr 05, 2018, 07:50 PM IST
आप सोच भी नहीं सकते अंदर होता है कितना खौफनाक नजारा आप सोच भी नहीं सकते अंदर होता है कितना खौफनाक नजारा

स्पेशल डेस्क. दुनिया में जिसने भी जन्म लिया है, उसकी मौत निश्चित है। किसी की मौत प्राकृतिक कारणों से होती है तो कई बार दुर्घटना या अप्राकृतिक कारणों से भी लोगों की असमय मौत हो जाती है। ऐसे मामलों में डेड बॉडी का पोस्टमॉर्टम कर ये पता लगाया जाता है कि मौत की वजह क्या थी। साथ ही पोस्टमॉर्टम के जरिए मौत का समय भी पता किया जा सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं पोस्टमॉर्टम रूम के अंदर होता क्या है? पोस्टमॉर्टम कर्मचारी ने डायरी में लिखी खौफनाक बातें...


अहमदाबाद के एक पोस्टमॉर्टम हाउस में काम करने वाले बाबूभाई सितापारा वाघेला कई सालों से डेड बॉडीज को चीरने-फाड़ने का काम कर रहे हैं। उन्होंने रूम के अंदर आज तक जो भी देखा, उसे एक डायरी में लिखा है। उनके अनुभवों को पढ़कर आप भी समझ जाएंगे कि पोस्टमॉर्टम रूम के अंदर कुछ मिनट बिताना ही कितना डरावना होता होगा। ऐसे में वहां काम करने वाले लोग तो सालों से अपनी जिंदगी का एक बड़ा हिस्सा उस जगह पर ही बिताते हैं।


अपनी डायरी में बाबूभाई ने कई घटनाओं का जिक्र किया है। वो लिखते हैं कि उन्होंने अपनी लाइफ में ऐसी बॉडीज का पोस्टमॉर्टम किया है, जिन्हें देखने मात्र से किसी को भी चक्कर आ जाए। एक घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने लिखा है कि एक बार उन्हें ऐसी बॉडी का पोस्टमॉर्टम करना पड़ा था, जिसकी मौत 8 दिन पहले हो चुकी थी। उस सिर कटी लाश में कीड़े लगे हुए थे। पोस्टमॉर्टम करने के बाद बाबूभाई ने कई दिनों तक खाना नहीं खाया था।


नोट- सारी तस्वीरें दिल्ली के पोस्टमॉर्टम हाउस की हैं। ( सोर्स- डेलीमेल )

आगे पढ़िए डायरी के कुछ और अंश...

ये भी पढ़ें

पोर्नस्टार ने बताया एडल्ट मूवीज का सच, कहा- रोज कमाता हूं लाखों रु, लेकिन...

जब सलमान से जज ने पूछा तुम्हारा नाम क्या है, तो ऐसा था उनका जवाब

ये लड़की बेचती है अपना यूरिन, हर बूंद के चार्ज करती है 1500 रु, जानें क्यों

पोर्न इंडस्ट्री का स्टार है मासूम सा दिखने वाला बच्चा, लेटकर शूट करता है सारे सीन

बाबूभाई को एक दिन में कई बॉडीज का पोस्टमॉर्टम करना पड़ता है। बाबूभाई को एक दिन में कई बॉडीज का पोस्टमॉर्टम करना पड़ता है।
एक लक्जरी और मिनी बस में हुई टक्कर में हुई मौतों के बाद बाबुभाई को 18 लाशों का पोस्टमॉर्टम करना पड़ा था। एक लक्जरी और मिनी बस में हुई टक्कर में हुई मौतों के बाद बाबुभाई को 18 लाशों का पोस्टमॉर्टम करना पड़ा था।
जगह के अभाव में सारी बॉडीज पोस्टमॉर्टम यार्ड में ही रखी गई थी। जगह के अभाव में सारी बॉडीज पोस्टमॉर्टम यार्ड में ही रखी गई थी।
एक साथ इतनी लाशें देख वो बहुत घबरा गए थे। एक साथ इतनी लाशें देख वो बहुत घबरा गए थे।
बाबूभाई ने लिखा है कि उन्हें सबसे बुरा तब लगता है जब उन्हें किसी छोटे बच्चे की बॉडी को चीरना पड़ता है। बाबूभाई ने लिखा है कि उन्हें सबसे बुरा तब लगता है जब उन्हें किसी छोटे बच्चे की बॉडी को चीरना पड़ता है।
बाबूभाई के पिताजी और दादाजी भी इसी काम से जुड़े हुए थे। बाबूभाई के पिताजी और दादाजी भी इसी काम से जुड़े हुए थे।